एसटीएफ को मिली बडी सफलता....पुलिस भर्ती के नाम पर ठगी वाले गिरोह के सरगना समेत 8 दबोचे

एसटीएफ को मिली बडी सफलता....पुलिस भर्ती के नाम पर ठगी वाले गिरोह के सरगना समेत 8 दबोचे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) एवं स्थानीय पुलिस भर्ती की ऑफ लाईन लिखित परीक्षा में सम्मिलित होने वाले अभ्यर्थियो को अनुचित तरीके से लाभ दिलाने का झांसा देकर ठगी एवं धांधली करने वाले गिरोह के सरगना समेत आठ लोगों को आगरा, मथुरा और फिरोजाबाद से गिरफ्तार किया गया है। एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य के विभिन्न जिलों में रविवार को आयोजित की गई पुलिस कांस्टेबल एवं आरक्षी पीएसी की भर्ती की ऑफ लाईन लिखित परीक्षा में सम्मिलित होने वालों अभ्यर्थियो को पेपर कराने में लाभ दिलाने का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को आगरा के थाना न्यू आगरा क्षेत्र में ओवर ब्रिज के नीचे से गिरफ्तार किया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गये युवको में मथुरा निवासी शिव कुमार, भुवनेश के अलावा कानपुर देहात निवासी सत्यम कटियार शामिल हैं। पकड़े गये ठगों के पास से 42००० की नगदी, कुछ फर्जी आईडी और अन्य कार्ड बरामद किये गये। श्री सिंह ने बताया कि इस बात की जानकारी मिल रही थी कि पुलिस भर्ती परीक्षा के दौरान कुछ ऐसे गिरोह सक्रिय हैं जो अभ्यर्थियों को परीक्षा कराने के नाम पर अनुचित लाभ का झांसा देकर ठगी करते हैं। गिरोह के सदस्यों को पकडऩे के लिए एसटीएफ की कई टीमें लगाई गई थी। इसी क्रम में आगरा क्षेत्र के पुलिस उपाधीक्षक श्याम कांत के नेतृत्व वाली फील्ड इकाई को सूचना मिली कि कुछ लोग पुलिस भर्ती परीक्षा में अभ्यर्थियों से पैसा लेकर उनको लाभ पहुचाने के इरादे से थाना न्यू आगरा क्षेत्र में एकत्र हो रहे हैंं। श्री सिंह ने बताया कि सूचना पर एसटीएफ फील्ड यूनिट टीम के निरीक्षक हरीश वर्धन सिंह तथा उपनिरीक्षक मुनेश बाबू आदि मौके पर पहुंचे और तीनों आरोपियों को ओवर ब्रिज के नीचे से गिरफ्तार कर लिया गया। पकड़े गये लोगों ने पूछताछ पर बताया कि वे लोग फर्जी दस्तावेज तैयार कर लिखित परीक्षा में पास कराने के नाम पर लोगों को ठगते है जिसके एवज में ये लोग 6 से 8 लाख रुपये लेते हैं। श्री सिंह ने बताया कि इसी तरह पुलिस भर्ती की ऑफलाइन लिखित परीक्षा में धांधली एवं फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के सरगना समेत बोलेरो सवार तीन आरोपियों अलीगढ़ निवासी पवन, जीवन सिंह और राज कुमार को आगरा के हरिपर्वत इलाके से गिरफ्तार किया गया है। पकड़े गये आरोपियो के पास से चार सिम आधारित इलेक्ट्रोनिक कम्यूनिकेशन डिवाइस, एक वेब कैमरा, 22 ईयर फोन (कान में लगाने वाली ब्लू ट्रुथ आधारित) 11 अभ्यर्थियों की मार्कशीट एव एडमिट कार्ड की छायाप्रतियां ,15००० रूपये नगद बरामद किए गये। उन्होंने बताया कि 27 और 28 जनवरी को प्रस्तावित पुलिस आरक्षी एवं पीएसी में सीधी भर्ती की ऑफलाइन लिखित परीक्षा में धांधली एवं फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के सम्बन्ध में सूचनाएं प्राप्त हो रही थी। इसी क्रम में एसटीएफ की टीमों को लगायाा गया था। नोएडा एसटीएफ को सूचना मिली थी कि अनुचित तरीके से भर्ती परीक्षा कराने वाले गिरोह के सदस्य बोलेरो पर सवार होकर आज आगरा में हरिपर्वत इलाके मं लंगड़े की पुलिस चौकी पर आने वाले हैं। श्री सिंह ने बताया कि इस सूचना पर एसटीएफ की टीम ने तत्काल वहां पहॅुचकर बुलेरो सवार गिरोह के सरगना पवन और उसके साथी राजकुमार को हिरासत में ले लिया, जिन्होंने पूछताछ पर बताया कि अभ्यर्थी जीवन सिंह को जो डिवाइस दिये गये हैं वह राधा माधव इण्टर कालेज, गोवर्धन रोड, मथुरा पर द्वितीय पाली की परीक्षा में सम्मिति होने जा रहा है। इस पर एसटीएफ टीम ने हिरासत में लिए दोनों आरोपियों को बुलेरो कार लेकर अभ्यर्थी जीवन सिंह को श्री राधा माधव इण्टर कालेज, गोवर्धन रोड, मथुरा पहॅुचकर कालेज के बाहर से गिरफ्तार कर लिया गया। श्री सिंह ने बताया कि पूछताछ पर पकडे गये गिरोह लीडर पवन ने बताया कि वह बी.ए. पास है और आगरा में एसएससीकी कोचिंग करते समय उसकी मुलाकात आगरा निवासी कपिल से हुई थी। बाद में कपिल ने उसे बताया कि वह विभिन्न परीक्षाओं में साल्वर इत्यादि बैठाकर भर्ती कराता है और उसके बाद करीब ०1 साल से वह भी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में पेैसे लेकरअनुचित संसाधनों पर प्रयोग करके अभ्यर्थियों को पास कराने का काम करता था। जिसके ०5 से 1० लाख रूपये लेते थे। उन्होंने बताया कि पुलिस भर्ती परीक्षा में ये लोग अनुचित संसाधनों के रूप में तकनीकी का प्रयोग करते हुए अभ्यर्थी जीवन सिंह को श्री राधा माधव इण्टर कालेज के परीक्षा केन्द्र पर बैठाना चाहते थे जिसके लिए सिम आधारित कम्युनिकेशन डिवाइसेस तथा माइक्रो ईयर फोन (ब्लूट्रुथ आधारित) की व्यवस्था की थी। जिसे बाहर से बैठकर मोबाइल फोन से कनेक्ट कर दिया जाता और जब अभ्यर्थी परीक्षा में प्रश्न सुनकर उसका जवाब बाहर बैंठे हुए राज कुमार और पवन देते लेकिन परीक्षा शुरु होने के पहले ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। आगे की कार्रवाई स्थानीय पुलिस कर रही है। फिरोजाबाद से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार पुलिस भर्ती परीक्षा में जलेसर रोड पर अमर दीप डिग्री कालेज से द्वितीय पाली की परीक्षा केन्द्र प्रभारी डा. पुरूषोत्तम शर्मा ने थाना उत्तर में दी तहरीर में के अनुसार बायोमैट्रिक हाजिरी लगाने के लिये विवेक कुमार और कक्ष निरीक्षक अवधेश सिंह जादौन ने चैकिंग के दौरान परीक्षार्थी रवि कुमार निवासी अलीगढ़ के स्थान पर अंकित कुमार को परीक्षा देते समय पकड़ लिया। परीक्षा देने के लिये अंकित और रवि ने मिलकर कूट रचित प्रवेश पत्र, पैन काडऱ् पर फोटो लगाकर छायाप्रति तैयार की थी। पुलिस ने परीक्षा केन्द्र के बाहर मौजूद रवि को भी गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से फर्जी पैनकाडऱ् और प्रवेश पत्र बरामद किया गया है।

Share it
Top