मेरठ में मुज़फ्फरनगर के प्रिंसिपल समेत 5 गिरफ्तार,नलकूप चालक परीक्षा में करा रहा था पैसे लेकर भर्ती ...!

मेरठ में मुज़फ्फरनगर के प्रिंसिपल समेत 5 गिरफ्तार,नलकूप चालक परीक्षा में करा रहा था पैसे लेकर भर्ती ...!

मेरठ-उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की ओर से शनिवार को आयोजित नलकूप चालक भर्ती परीक्षा के बाद ओएमआर शीट भरवाकर भर्ती कराने के नाम पर अभ्यर्थियों से मोटी रकम वसूलने वाले गिरोह के पांच लोगों को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया।गिरफ्तार लोगों में मुज़फ्फरनगर के एक स्कूल का प्रिंसिपल भी शमिल है |

एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने पूरी जानकारी देते हुए बताया कि नलकूप चालक भर्ती परीक्षा के बाद ओएमआर शीट भरवाकर भर्ती कराने के नाम पर अभ्यर्थियों से मोटी रकम वसूलने वाले गिरोह का मुख्य आरोपी मुजफ्फरनगर में एक स्कूल का प्रिंसिपल योगेश कुमार है जी बिजनौर का रहने वाला है और इसके अलावा बिजनौर के ही अजय सिंह, सौरभ चौधरी व आनंद कुमार भी इसके गिरोह में शामिल हैं। इनके अलावा सॉल्वर प्रदीप को भी गिरफ्तार किया गया है जो मेरठ का ही निवासी है | सभी को मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है। एसएसपी श्री सिंह ने बताया कि मेरठ व आसपास के इलाके में नलकूप चालक भर्ती परीक्षा में अभ्यर्थियों से मोटी रकम लेकर परीक्षा के बाद ओएमआर शीट भरवाकर भर्ती कराने वाले गिरोह के सक्रिय होने की सूचना मिल रही थी। एसटीएफ मेरठ ने इसकी पूरी जानकारी जुटाने के बाद मेरठ में कैंट इलाके में सदर बाजार स्थित हनुमान मंदिर के पास से कार में आए चार लोगों को गिरफ्तार किया। इनके पास से ओएमआर शीट की 10 कार्बन कॉपी, 16 अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र, अन्य सामग्री बरामद होने पर जब सख्ती से पूछताछ की गई तो उन्होंने अभ्यर्थियों से रुपये लेकर भर्ती कराने की बात कबूल कर ली।उन्होंने बताया कि मुख्य आरोपी योगेश ने पूछताछ में बताया कि वह मुजफ्फरनगर में एक स्कूल में प्रधानाचार्य है। उसके स्कूल का इससे कोई लेनादेना नहीं है। वह और उसके साथी अलग से गैंग बनाकर कार्य करते हैं। योगेश ने बताया कि उसका गिरोह परीक्षा के बाद ओएमआर शीट भरवाकर भर्ती कराने के एवज में प्रत्येक अभ्यर्थी से पांच लाख रुपये लेता था। उसने स्वीकार किया कि बरामद हुए प्रवेश पत्र उन्हीं अभ्यर्थियों के हैं, जिनसे भर्ती कराने के नाम पर पैसा वसूला गया है। योगेश ने बताया कि वे सभी इस धंधे से कई वर्षों से जुड़े हुए हैं। हरियाणा का रहने वाला विवान व रुद्रपुर उत्तराखंड का रहने वाला यतिन उर्फ अन्ना भी गैंग के मुख्य सदस्य हैं। गिरोह का काम विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में अधिक से अधिक अभ्यर्थियों को झांसा देकर उनसे रुपये वसूलना था। शनिवार को होने वाली परीक्षा के लिए भी उन लोगों ने अभ्यर्थियों से रुपये वसूले थे।

[रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध, ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप]


Share it
Top