मेघालय अवैध कोयला खादान हादसाः 370 फुट नीचे मिला एक और शव, रविवार को निकालेंगे बाहर

मेघालय अवैध कोयला खादान हादसाः 370 फुट नीचे मिला एक और शव, रविवार को निकालेंगे बाहर


शिलांग। मेघालय के ईस्ट जयंतिया हिल्स जिले में हुए अवैध कोयला खदान हादसे के करीब 45 दिन बाद नौसेना को एक और शव का पता चला है। अंडर वाटर रिमोटली आपरेटेड वेहिकल (यूडब्ल्यूआरओवी) के जरिए 370 फुट लंबवत और 280 फीट क्षैतिज कोयला खदान के रैट होल के अंदर शव को पता लगाया है। रविवार दोपहर के आसपास इस शव को बाहर निकाला जाएगा।

शनिवार की शाम प्रथम एनडीआरएफ बटालियन के सेकेंड-इन-कमान आरएस गिल ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया है कि नौसेना के यूडब्ल्यूआरओवी ने सुबह करीब तीन बजे के आसपास एक बॉडी को डिटेक्ट किया। साथ ही कोयला निकालने वाला एक बेलचा और लकड़ी की एक ट्राली मिली है। कल यानी रविवार को नौसेना की यूडब्ल्यूआरओवी की मदद से रेट हॉल में डिटेक्ट हुए शव को बाहर निकाला जाएगा। इससे पहले नौसेना ने गत 16 जनवरी को भी एक शव का पता लगाया था और बड़ी जद्दोजहद के बाद उसे बाहर निकालकर परिजनों को सौंप दिया गया।

उल्लेखनीय है कि मेघालय के ईस्ट जयंतिया हिल्स जिला के साइपुंग थानांतर्गत कसान गांव स्थित कोयले की एक अवैध खदान में पानी भर जाने से अंदर कोयला खोद रहे 15 श्रमिक गत 13 दिसम्बर से गायब हैं। जिस स्थान पर श्रमिक फंसे हैं, वहां करीब 100 खदानें हैं। खदान के करीब ही 500 मीटर की दूरी पर बहने वाली लाइटेन नदी का पानी भी खदान में आने की संभावना है। इसी वजह से हादसे वाले खदान का पानी कम नहीं हो रहा है। मौके पर नौसेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, ओडिशा अग्निशमन विभाग, कोल इंडिया लिमिटेड, किर्लोस्कर कंपनी के साथ ही जर्मनी की एक कंपनी पानी निकालने का लगातार अभियान चला रही है। वहीं एनडीआरएफ अपने संसाधनों के जरिए सभी एजेंसियों के साथ बेहतर तालमेल बनाए हुए है।


Share it
Top