एएन-32 में सवार सभी 13 सैन्य कर्मियों के शव मिले, ब्लैक बॉक्स बरामद, विमान का कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर भी मिला

एएन-32 में सवार सभी 13 सैन्य कर्मियों के शव मिले, ब्लैक बॉक्स बरामद, विमान का कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर भी मिला


-

नई दिल्ली। अरुणाचल प्रदेश के दुर्गम इलाके में 10 दिन पूर्व लापता हुए भारतीय वायुसेना के विमान एएन-32 में सवार सभी 13 लोगों के शव गुरुवार को दुर्घटना क्षेत्र में मिल गए। उन्हें चॉपर से वापस लाया जाएगा। वहां पहुंचे वायु सेना के खोजी दल को उड़ान डेटा रिकॉर्डर (ब्लैक बॉक्स) और एएन-32 परिवहन विमान का कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर भी मिल गया है।

अरुणाचल प्रदेश में तीन जून 2019 को लापता हुए वायु सेना के विमान एएन-32 का मलबा मंगलवार को देखा गया था। उसके दो दिन बाद बचाव दल के आठ सदस्य गुरुवार सुबह दुर्घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने विमान का मलबा और शवों के मिलने के बारे में जो सूचना अधिकारियों को दी, उसी के आधार पर आज भारतीय वायु सेना ने कहा, "भारतीय वायुसेना को यह बताते हुए दुख हो रहा है कि एएन-32 के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद विमान में सवार 13 लोगों में से कोई भी जीवित नहीं बचा है।" वायुसेना के प्रवक्ता ने बताया कि एएन-32 क्रैश में विंग कमांडर जीएम चार्ल्स, स्वाड्रन लीडर एच विनोद, फ्लाइट लेफ्टिनेंट आर थापा, फ्लाइट लेफ्टिनेंट ए तंवर, फ्लाइट लेफ्टिनेंट एस मोहंती, फ्लाइट लेफ्टिनेंट एम के गर्ग, वॉरेंट ऑफिसर के के मिश्रा, सार्जेंट अनूप कुमार, कॉरपॉरल शेरिन, लीड एयरक्राफ्ट मैन एसके सिंह, लीड एयरक्राफ्ट मैन पंकज, नॉन कॉम्बैट एंप्लॉयी पुताली और नॉन कॉम्बैट एंप्लॉयी राजेश कुमार की मौत हुई है।

वायुसेना ने ट्वीट करते हुए कहा, "भारतीय वायुसेना एएन-32 विमान हादसे में तीन जून 2019 को अपनी जान गंवाने वाले बहादुर एयर वॉरियर्स को श्रद्धांजलि देती है। दुख की इस घड़ी में हम पीड़ितों के परिवार के साथ खड़े हैं। उनकी आत्मा को शांति मिले।"

असम के जोरहाट हवाई अड्डे से तीन जून को दोपहर करीब 12.30 बजे उड़ान भरने वाला वायु सेना का विमान एएन-32, शियोमी जिले के मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड में कभी नहीं पहुंचा। विमान का अंतिम संपर्क ग्राउंड स्टाफ के साथ उस दिन दोपहर एक बजे हुआ था। विमान लापता होने के दिन से ही सेना, आईटीबीपी, भारतीय नौसेना, इसरो, राज्य पुलिस और जिला प्रशासन सहित विभिन्न एजेंसियों के कर्मियों और संसाधनों को इसकी तलाश थी। खोज के लिए सी-130जे विमान, सुखोई-30 एमकेआई विमान, भारतीय नौसेना के पी8आई लंबी दूरी के टोही विमान, उन्नत लाइट हेलीकॉप्टर, एमआई-17 और चीता हेलीकॉप्टर तैनात किए गए और उपग्रह फोटोग्राफी भी की गई। लापता एएन-32 का मलबा अरुणाचल के सियांग जिले के जंगल में मिलने की पुष्टि के बाद बुधवार को दो हेलीकॉप्टर के जरिए 15 जवान और पर्वतारोही दल को दुर्घटना वाले इलाके में उतारा गया था। भारतीय वायुसेना का खोजी दल गुरुवार सुबह एएन-32 विमान के दुर्घटनास्थल पर पहुंचा, जहां उन्हें कोई भी जीवित नहीं मिला। वायु सेना ने कहा कि इसी वजह से विमान में सवार 13 लोगों के परिवारों को सूचित कर दिया गया है कि कोई जीवित नहीं है।

विमानों के लिए अत्यंत दुर्गम क्षेत्र

कई शोध में यह बात सामने आई है कि अरुणाचल के इस इलाके में वायुमंडल में बहुत ज्यादा हलचल रहती है। तकरीबन 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा यहां की घाटियों के संपर्क में आने पर ऐसी स्थितियां बनाती हैं कि विमानों के लिए उड़ान भरना मुश्किल हो जाता है।

सर्च ऑपरेशन भी कठिन

दूर-दूर तक घने जंगल और आबादी नहीं होने के कारण लापता विमानों की खोजबीन करने का कार्य भी बेहद कठिन है। इसमें कई बार दशकों लग जाते हैं। इससे पहले भी अरुणाचल की पहाड़ियों पर कई बार ऐसे विमानों का मलबा मिल चुका है, जो दूसरे विश्व युद्ध के दौरान लापता हो गए थे। इसी साल फरवरी में ईस्ट अरुणाचल के रोइंग जिले में 75 साल पहले लापता हुए एक विमान का मलबा मिला था। यह अमेरिकी वायुसेना का विमान था, जो दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान असम से चीन के लिए उड़ा था।

वायुसेना का भरोसेमंद विमान है एएन-32

एएन-32 को सेना के लिए काफी भरोसेमंद माना जाता है। एएन-32 का पूरा नाम एंटोनॉव-32 है।1976 में पहली बार बने इस विमान की कीमत करीब 15 मिलियन डॉलर है। दुनिया भर में ऐसे करीब ढाई सौ विमान सेवा में हैं। 1986 में भारतीय वायुसेना में इसे शामिल किया गया, जिसके बेड़े में इस वक्त करीब 105 एएन-32 विमान हैं, जो मुख्य तौर पर ट्रांसपोर्ट के काम में लगे हैं। इसे नागरिक और सैन्य दोनों जरूरतों के लिए डिजाइन किया गया है। रूस निर्मित एएन-32 में दो इंजन होते हैं। यह विमान 55 डिग्री सेल्सियस से भी अधिक के तापमान में 'टेक ऑफ' कर सकता है और 14,800 फीट की ऊंचाई तक बिना दोबारा ईंधन भरे चार घंटे तक उड़ान भरने में सक्षम है।

इस विमान में पायलट, को-पायलट, गनर, नेविगेटर और इंजीनियर सहित 5 क्रू-मेंबर होते हैं। इसमें अधिकतम 50 लोग सवार हो सकते हैं। जीपीएस से लैस इस विमान में मौसम की जानकारी देने वाला रडार और मॉडर्न नेविगेशन सिस्टम होता है इसलिए इसका इस्तेमाल हर तरह के मैदानी, पहाड़ी और समुद्री इलाकों में किया जाता रहा है, चाहे सैनिकों को पहुंचाने की बात हो या सामान ढोकर ले जाने की। 2009 में भारत ने 400 मिलियन का कॉन्ट्रैक्ट यूक्रेन के साथ किया था, जिसमें एएन-32 की ऑपरेशन लाइफ को अपग्रेड और एक्सटेंड करने की बात कही गई थी। अपग्रेड किये गए एएन-32 आरई एयरक्राफ्ट 46 में 2 कॉन्टेमपररी इमरजेंसी लोकेटर ट्रांसमीटर्स शामिल किए गए हैं लेकिन एएन-32 को अब तक अपग्रेड नहीं किया गया था।

पहले भी हादसे के शिकार हो चुके हैं एएन-32

इससे पहले भी एएन-32 विमान हादसे का शिकार हुए हैं। एक हादसा तो पहली बार भारतीय वायुसेना में शामिल होने के बाद अरब सागर के ऊपर हुआ था। साल 2009 में अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम सियांग जिले के एक गांव के पास एएन-32 विमान हादसे का शि‍कार हुआ, जब इस विमान में सवार 13 लोग मारे गए थे। साल 2016 में एक अन्य एएन-32 विमान बंगाल की खाड़ी के ऊपर लापता हो गया था, जो चेन्नई से पोर्ट-ब्लेयर की उड़ान पर था और उसमें चालक दल के छह सदस्यों सहित कुल 29 लोग सवार थे। काफी खोजबीन के बाद आज तक न तो सेना को उस विमान का मलबा मिला और न ही उसमें सवार किसी के शव।

Share it
Top