लोकसभा चुनाव में सफलता के लिए 2014 के मुकाबले प्रचार अभियान को और धार देगी भाजपा

लोकसभा चुनाव में सफलता के लिए 2014 के मुकाबले प्रचार अभियान को और धार देगी भाजपा



नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर 2014 से भी बेहतर सफलता हासिल करने के लिए अपनी चुनावी रणनीति को धार देने का काम किया है। इसके तहत पार्टी ने बूथ स्तर पर पन्ना प्रमुखों की नियुक्ति सुनिश्चित करने के साथ ही हर घर तक केंद्र की उपलब्धियों को पहुंचाने का फैसला किया है।

पार्टी की इस रणनीति के तहत हर कार्यकर्ता को यह दायित्व दिया गया है कि वह 20 घरों में जाकर चाय पर चर्चा करते हुए मोदी सरकार की उपलब्धियों से उन्हें अवगत कराएगा।

भाजपा सूत्रों के मुताबिक, टी-20 की इस रणनीति के तहत एक कार्यकर्ता 20 घर में जाकर चाय पिएगा और मोदी सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों की जानकारी देगा। इसके साथ ही 'एक बूथ-10 यूथ' और 'नमो एप' 'घर-घर दस्तक' सरीखे कार्यक्रमों के जरिए केंद्र की उपलब्धियों को घर-घर पहुंचाने का निर्णय किया गया है।

हाल ही में संपन्न भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भी इस बात पर सहमति बनी कि पार्टी सांसद, विधायक, स्थानीय और बूथ स्तर के कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर मोदी सरकार की उपलब्धियों को जनता के बीच प्रस्तुत करेंगे।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि जमीनी संपर्क अभियान के साथ ही पार्टी 2014 की अपेक्षा 2019 के आम चुनाव में सोशल मीडिया पर भी ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ेगी और भाजपा सरकार की उपलब्धियों का प्रचार प्रसार करेगी। 2014 में भाजपा ने सोशल मीडिया और अत्याधुनिक प्रचार के नए तरीकों के जरिए ज्यादा से ज्यादा मतदाताओं तक अपनी पहुंच बनाई थी। 'थ्री डी' तकनीक के जरिए रैलियों के माध्यम से एक वक्त में कई जगहों पर मौजूद लोगों से एक साथ जुड़ने की पहल हुई थी, जो काफी लोकप्रिय भी रही। चाय पर चर्चा भी उन दिनों नई पहल का हिस्सा था।

भाजपा सूत्रों ने बताया कि 2019 के आम चुनाव में पार्टी प्रचार अभियान को और तेज धार देगी। संपर्क अभियान के जरिए कार्यकर्ता विपक्षी आरोपों की सच्चाई उजागर करते हुए सरकार के कामकाज की भी पूरी जानकारी देंगे। साथ ही कार्यकर्ता लोगों को यह समझाने का भी प्रयास करेंगे कि 2019 में भी मोदी की अगुवाई में सरकार का गठन देशहित में आवश्यक है।


Share it
Top