छात्रा के यौन शोषण में चिन्मयानंद गिरफ्तार, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया


शाहजहांपुर (उप्र)। पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने शुक्रवार सुबह पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर लिया।चिन्मयानंद को अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। उनकी गिरफ्तारी एक विधि छात्रा के साथ यौन शोषण के आरोप में की गई है।

एसआईटी ने सोमवार को इस छात्रा के 164 के तहत कलमबंद बयान न्यायिक मजिस्ट्रेट (प्रथम) गीतिका सिंह के समक्ष दर्ज कराए थे। इसके बाद रात को स्वामी की हालत अचानक खराब हो गई। कार्डियोलॉजिस्ट और फिजीशियन सहित चार डॉक्टरों की टीम उनके उपचार के लिए मुमुक्षु आश्रम पहुंची।

पीड़ित छात्रा लगातार भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद की गिरफ्तारी की मांग कर रही थी। बुधवार को उसने कहा था कि गिरफ्तारी न होने पर वह आत्मदाह कर लेगी। इसके बाद शाम को तबीयत खराब होने पर चिन्मयानंद को शाहजहांपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था।

मेडिकल कालेज से गुरुवार शाम उन्हें केजीएमयू रेफर किया गया था। मगर चिन्मयानंद आयुर्वेद पद्धति से इलाज कराने की बात कहते हुए मेडिकल कालेज से सीधे अपने मुमुक्षु आश्रम पहुंच गए थे।

एसआईटी की टीम जवानों के साथ शुक्रवार पूर्वाह्न लगभग नौ बजे मुमुक्षु आश्रम पहुंची और दुष्कर्म आरोपित स्वामी चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर लिया। एसआईटी ने मेडिकल कालेज स्थित ट्रामा सेंटर में चिकित्सीय जांच कराने के बाद चिन्मयानंद की कोर्ट में पेश किया। अदालत ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

उल्लेखनीय है कि पीड़ित छात्रा चिन्मयानंद के कॉलेज में पढ़ती है। उसने चिन्मयानंद पर ब्लैकमेल कर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया। इसकी गूंज सुप्रीम कोर्ट में हुई। देश की सबसे बड़ी अदालत ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ गठित करवा कर पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी के गठन का आदेश दिया था। चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के समय एसआईटी का नेतृत्व कर रहे पुलिस महानिरीक्षक नवीन अरोरा मौजूद रहे।

Share it
Top