राजकीय सम्मान के साथ मोक्षदायिनी गंगा में अटलजी की अस्थियां विसर्जित

राजकीय सम्मान के साथ मोक्षदायिनी गंगा में अटलजी की अस्थियां विसर्जित


हरिद्वार। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी की अस्थि अवशेष रविवार को वैदिक विधि विधान के साथ हर की पैड़ी स्थित ब्रह्म कुण्ड में गंगा में प्रवाहित कर दिए गए। अस्थि विसर्जन कर्म उनके तीर्थ पुरोहित हरिहर शास्त्री के पौत्र अखिलेश शास्त्री के नेतृत्व में आचार्य आशीष गौतम व हरिओम जयवाल ने सम्पन्न करवाया। अस्थि विसर्जन अटलजी की दत्तक पुत्री नमिता कौल भट्टाचार्य, उनके पति रंजन भट्टाचार्य, नातिन निहारिका भट्टाचार्य, अटल जी के भांजे अनूप मिश्रा व नमिता की बहन नम्रता सहित अन्य परिवारजनों ने सम्पन्न करवाया। इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखण्ड के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत, भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री तीरथ सिंह रावत, हरिद्वार सांसद डा. रमेश पोखरियाल निंशक, अटलजी के सचिव शिवकुमार, शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज सहित अनेक केन्द्रीय नेता, राज्यमंत्री मंडल के सदस्य व भाजपा संगठन के केन्द्रीय व राज्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

अस्थि विसर्जन से पूर्व अटलजी को राष्ट्रीय सम्मान के तौर पर रुड़की स्थित बंगाल इंजीनियरिंग ग्रुप के ब्रिगेडियर के नेतृत्व में सेना की टुकड़ी ने अंतिम सलामी दी। हरिद्वार के तीर्थ पुरोहितों की ओर से गंगा सभा के अध्यक्ष पुरुषोत्तम शर्मा गांधीवादी व महामंत्री रामकुमार मिश्रा, आचार्य बालकृष्ण, महाराज हरिचेतनानंद, सतपाल ब्रह्मचारी, बाबा बलराम दास हठयोगी, स्वामी ऋषिश्वरानंद, स्वामी रामेश्वरानंद समेत कई संगठनों के प्रतिनिधियों ने अटलजी को श्रद्धासुमन अर्पित किए। प्रातः 11 बजे हरिद्वार के भल्ला कालेज मैदान से उनकी अस्थि कलश यात्रा हरकी पैड़ी के लिए रवाना हुई। इस दौरान अटलजी के हजारों चाहने वालों ने उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। तीर्थनगरी अटलजी अमर रहें, भारत माता की जय के नारों से गूंज उठी। अस्थित कलश यात्रा से पूर्व सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।

रविवार को तयशुदा कार्यक्रम के तहत सुबह अटलजी का अस्थि कलश विमान द्वारा जौलीग्रंाट पहुंचा। जहां से सेना के हेलीकाॅप्टर द्वारा उनकी पुत्री नमिता कौल भट्टाचार्य व अन्य परिजन तथा केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, उत्तराखण्ड के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत तथा अटलजी के साथ साये की तरह हमेशा रहे उनके सचिव शिव कुमार भल्ला कालेज स्टेडियम पहुंचे। हेलीकाॅप्टर के भल्ला कालेज मैदान में पहुंचते ही स्टेडियम के बाहर खड़े हजारों लोगों ने अटलजी अमर रहें, जब तक सूरज चांद रहेगा अटल तुम्हारा नाम रहेगा जैसे नारों से आसमान गुंजायमान कर दिया। स्टेडियम में अस्थि कलश को फूंलों से सुसज्जित सेना के ट्रक पर रखा गया। और वहां मौजूद भाजपा नेताओं तथा अन्य गणमान्य लोगों ने अटल जी के अस्थि कलश पर अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। हरकी पैड़ी पहुंचकर अस्थि कलश यात्रा सम्पन्न हुई। जहां मोक्षदायिनी गंगा में उनकी अस्थियों को विसर्जित कर दिया गया।


Share it
Top