मोदी ने की 'टीबी मुक्त भारत अभियान' की शुरुआत

मोदी ने की टीबी मुक्त भारत अभियान की शुरुआत


नयी दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'टीबी मुक्त भारत अभियान' की आज शुरुआत करते हुये कहा कि कुछ लोगों को वर्ष 2025 तक इस बीमारी को देश से खत्म करने का लक्ष्य मुश्किल जरूर लग रहा होगा, लेकिन यह असंभव नहीं है।
मोदी ने यहाँ विज्ञान भवन में 'डेल्ही एन्ड-टीबी समिट' के दौरान टीबी मुक्त भारत अभियान की शुरुआत की। उन्होंने कहा "भारत ने 2025 तक टीबी को समाप्त करने का लक्ष्य रखा है। सही रणनीति के साथ, सही से जमीन पर नीतियों को लागू करते हुये चलेंगे तो हम यह लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। कुछ लोगों को यह मुश्किल जरूर लग रहा होगा, पर यह असंभव नहीं है।"
संयुक्त राष्ट्र ने स्वस्थ जीवन और सभी उम्र के लोगों के स्वास्थ्य के सतत विकास लक्ष्य में टीबी से मुक्ति को भी शामिल किया है जिसे वर्ष 2030 तक हासिल किया जाना है। भारत ने अपने लिए 2025 तक यह लक्ष्य हासिल करना तय किया है। सितंबर में संयुक्त राष्ट्र आम सभा की बैठक से पहले की तैयारी के तौर पर विभिन्न देशों में 'एन्ड-टीबी समिट' का आयोजन किया जा रहा है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि टीबी जिस तरह से समाज के स्वास्थ्य और देश की अर्थव्यवस्था पर असर डालती है, तय समय में इससे मुक्ति पाना आवश्यक हो गया है। टीबी से ज्यादातर गरीब तबके के लोग पीड़ित हैं और इसलिए, इसे खत्म करने के लिए उठाया गया हर कदम सीधे गरीबों से जुड़ा है।
उन्होंने इसके लिए हर स्तर पर और एकीकृत होकर प्रयास करने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि टीबी को भारत से मिटाने के लिए राज्य सरकारों की बहुत बड़ी भूमिका है। उन्होंने कहा,"मैंने सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर इस अभियान से जुड़ने का आग्रह किया है।"
प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को टीबी मुक्त करने के लिए पहले टीबी मुक्त गाँव, टीबी मुक्त जिला और टीबी मुक्त राज्य के लक्ष्यों को हासिल करना होगा। इसके बाद ही टीबी मुक्त देश का लक्ष्य हासिल किया जा सकेगा।

Share it
Top