उन्नाव की घटना को लेकर अखिलेश का योगी सरकार पर हमला..सरकार को किसान विरोधी बताया

उन्नाव की घटना को लेकर अखिलेश का योगी सरकार पर हमला..सरकार को किसान विरोधी बताया


लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन्नाव की घटना को लेकर योगी सरकार पर बड़ा हमला किया है। उन्होंने राज्य सरकार को किसान विरोधी बताया है।

अखिलेश ने शनिवार देर शाम एक बयान में कहा कि उन्नाव में किसानों पर पुलिस और प्रशासन की दमनात्मक कार्यवाही की जितनी निंदा की जाए कम है। उन्होंने आरोप लगाया कि सूबे की भाजपा सरकार ने किसानों की जायज मांग न सुनकर उनकी आवाज को कुचलने का अलोकतांत्रिक काम किया है। यह भी कहा कि भाजपा सरकार किसानों के प्रति द्वेषपूर्ण रवैया अपनाने में जरा भी संकोच नहीं करती है। किसानों की समस्याओं का जवाब भाजपा सरकार लाठी-गोली से देकर संवेदनाओं को तार-तार करना अपना धर्म समझती है।

सपा मुखिया ने आरोप लगाया कि उन्नाव में राज्य सरकार द्वारा ट्रांस गंगा सिटी के लिए किसानों की जमीनें जबरन अधिगृहीत की गई हैं। किसानों को बहुत कम मुआवजा दिया गया है। आज किसान जब बढ़ा हुआ मुआवजा और रोजगार की मांग कर रहे हैं तो उन पर पानी, आंसू गैस छोड़ी गई और जमकर लाठियां बरसाई गई हैं। दर्जन भर से ज्यादा किसान घायल हुए हैं। पुलिस और प्रशासन का यह बर्बर रवैया घोर निंदनीय है।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार ने चुनाव के समय जो वायदा किसानों से किया था उसे पूरा करना चाहिए। सरकार को किसानों को अपमानित करने और उन पर लाठी-गोली चलाने के बजाय सहमति का रास्ता अपनाना चाहिए। अन्नदाता का अपमान सरकार को मंहगा पड़ेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया कि समाजवादी सरकार ने विकास योजनाओं के लिए जब भी जमीन अधिगृहीत की किसानों की सहमति से की। किसानों को समाजवादी सरकार ने नोएडा से आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे का 65 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा दिया था। समाजवादी सरकार में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का किसानों की सहमति से उन्हें चार गुना मुआवजा दिया गया था।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार जबर्दस्ती और दमन का सहारा ले रही हैं यह पूर्णतया अनुचित और अनैतिक कृत्य है। किसानों की शिकायत है कि वायदे के मुताबिक उनके मसलों का समाधान नहीं किया जा रहा है। प्रशासन जबर्दस्ती उनकी जमीनों पर कब्जा करना चाहता है।


Share it
Top