महाराष्ट्र में अगले हफ्ते तक सरकार बनने के आसार... एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के बीच मंत्रिमंडल को लेकर हुआ यह समझौता!

महाराष्ट्र में अगले हफ्ते तक सरकार बनने के आसार... एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के बीच मंत्रिमंडल को लेकर हुआ यह समझौता!

मुम्बई। विधानसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद से ही महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर उठापटक जारी है। इस बीच खबर है कि अगले हफ्ते तक सरकार बनाने के लिए कवायद भी तेज हो गई है। कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं की लगातार बैठकें हो रही हैं और ये सभी नेता शिवसेना के नेताओं से लगातार संर्पक में हैं। इसी बीच शरद पवार ने कहा है कि सरकार जरूर बनेगी और पांच साल तक चलेगी। इसके लिए जरूरी है कि सभी तीनों दलों को सरकार में शामिल होना होगा। यह तय हुआ है कि शिवसेना और एनसीपी का ढाई -ढाई साल का मुख्यमंत्री होगा। मंत्रियों की संख्या के बारे में लगभग यह तय है कि शिवसेना और एनसीपी के 14-14 मंत्री होंगे, जबकि कांग्रेस के 12 मंत्री और साथ में कांग्रेस को विधानसभा अध्यक्ष का पद भी देने की बात है। यह इसलिए भी हो रहा है कि शिवसेना और एनसीपी दोनों दल विधानसभा अध्यक्ष के मामले में अभी भी एक दूसरे पर शक कर रहे हैं, क्योंकि किसी भी पार्टी में टूट होने पर विधानसभा अध्यक्ष की भूमिका अहम हो जाती है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच जो साझा न्यूनतम कार्यक्रम बन रहा है, उसमें शिवसेना को सवारकर को भारत रत्न देने जैसे मांगें छोडऩी होगी। मतलब शिवसेना को अपने कट्टर हिंदुत्व की छवि से बाहर निकलना होगा, साथ ही अयोध्या जैसे मामले पर भी शिवसेना को थोड़ा संयम बरतने की सलाह कांग्रेस और एनसीपी के तरफ से दी गई है। इसके अलावा महाराष्ट्र में मुसलमानों को 5 फीसदी आरक्षण फिर से लागू करना होगा, हां इतना जरूर है कि नई औद्योगिक नीति में स्थानीय युवाओं का कोट या आरक्षण तय किया जाएगा। यह शिवसेना की मांग हमेशा से रही है। इसके अलावा बेरोजगार युवकों को मासिक बेरोजगारी भत्ता देने का भी प्रावधान किया जाएगा. किसानों की कर्ज माफी होगी, अभी यह तय नहीं है कि यह कैसे किया जाएगा, पूरी कर्ज माफी या आंशिक. साथ ही फसल बीमा योजना को तुरंत लागू किया जाएगा।

Share it
Top