राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भाजपा ने राहुल से की माफी की मांग

राफेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भाजपा ने राहुल से की माफी की मांग


नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राफेल युद्धक विमान खरीद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि राहुल गांधी को देश से माफी मांगनी चाहिए। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी औपचारिक रूप से देश से मांफी मांगे और राहुल गांधी को भी देश से मांफी मांगनी चाहिए।

भाजपा मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि जिनके हाथ पूरी तरह से भ्रष्टाचार में रंगे हैं, देश की सुरक्षा से जिन्होंने खिलवाड़ किया है, वो अपने प्रायोजित राजनीतिक कार्यक्रम को कोर्ट में न्याय की गुहार से रूप में प्रस्तुत कर रहे थे।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली तीन जजों की पीठ ने गुरुवार को राफेल सौदे पर सुनवाई की। पीठ ने कहा कि इस मामले में अलग से जांच की जरूरत नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद रविशंकर प्रसाद ने कहा कि शीर्ष न्यायालय ने राफेल मामले पर पूरी प्रक्रिया को जांचा और उसे सही बताया। न्यायालय ने युद्धक विमानों की खरीद में दाम की प्रक्रिया को भी जांचा और सही बताया। इसके साथ सुप्रीम कोर्ट ने ऑफसेट की प्रक्रिया को भी सही ठहराया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने शीर्ष अदालत के फैसले का हवाला देते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी चोर हैं। जब राहुल सुप्रीम कोर्ट से हार गए तो उन्होंने इसे लोकसभा चुनाव में अपना मुख्य मुद्दा बनाया और यहां तक कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हमारे लोकप्रिय और ईमानदार नेता को चोर कहा है। प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी झूठ बोल रहे थे ये आज शीर्ष न्यायालय में साबित हो गया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आज देश ये जानना चाहता है कि वो कौन सी ताकतें थीं जो राहुल गांधी के पीछे खड़ी थीं।

वहीं, भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने न्यायालय का फैसला आने के बाद ट्वीट कर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने राफेल मामले में पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी। शीर्ष अदालत ने कहा कि राहुल गांधी को पूरा आदेश पढ़े बिना कोई राजनीतिक टिप्पणी नहीं करनी चाहिए तथा उन्हें भविष्य में सावधान रहना चाहिए। नड्डा ने कहा कि सड़क से लेकर संसद तक राहुल गांधी और उनकी पार्टी ने देश को गुमराह करने का प्रयास किया लेकिन सत्य की जीत हुई।


Share it
Top