रामलला के दर्शनार्थियों की संख्या बढ़ी...अखाड़ा परिषद ने कहा योगी हों ट्रस्ट के सदस्य

रामलला के दर्शनार्थियों की संख्या बढ़ी...अखाड़ा परिषद ने कहा योगी हों ट्रस्ट के सदस्य

अयोध्या। उच्चतम न्यायालय के निर्णय के बाद अयोध्या में रामलला का दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या निरंतर बढ़ रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के दर्शन के लिये दोनों पाली अर्थात सुबह-शाम श्रद्धालुओं की लम्बी कतारें लग जाती हैं। कड़ी जांच प्रक्रिया से गुजरने के बाद भक्तों को श्रीरामजन्मभूमि में प्रवेश मिलता है और उसके बाद परिसर में विराजमान रामलला का दर्शन करने के लिये रामभक्त वहां पहुंच पाते हैं। अदालत के निर्णय से अब यहां जल्द ही भव्य राम मंदिर बन जायेगा और रामलला टेंट से निकलकर अपने महल में विराजमान होंगे। रामलला का दर्शन कर जन्मभूमि से बाहर निकले गुडगांव के उपेन्द्र सिंह का कहना है कि अब अगली बार तब आयेंगे, जब श्रीराम का भव्य मंदिर बन जायेगा। कोलकाता से आये जी.के. तोमर ने कहा कि फैसला आने के दिन ही तय कर दिया था कि रामलला का दर्शन करने अयोध्या चलना है, अब यह संकल्प पूरा हो गया। अब मंदिर बनने की प्रतीक्षा है।

साधु-संतों की जानी मानी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी ने राम मंदिर के बनने वाले ट्रस्ट में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्ष पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ को शामिल करने की मांग की है। मंहत ने बुधवार को कहा कि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर उच्चतम न्यायालय का दशकों पुराने मामले का सौहार्दपूर्ण तरीके से समाधान करना स्वागत योगय है। न्यायालय ने तीन महीने के अन्दर केन्द्र सरकार को मंदिर निर्माण प्रक्रिया के लिए कमेटी गठित करने का आदेश दिया है। परिषद के अध्यक्ष ने कहा कि राम मंदिर आंदोलन में गोरक्ष पीठ के महंत और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गुरू अवैद्यनाथ का बहुत बड़ा योगदान रहा है।

Share it
Top