महाराष्ट्र और हरियाणा में फिर भगवा लहर ... एक्जिट पोल: दो तिहाई से भी अधिक बहुमत के साथ दोबारा सत्ता में लौटेगी भाजपा

महाराष्ट्र और हरियाणा में फिर भगवा लहर ... एक्जिट पोल: दो तिहाई से भी अधिक बहुमत के साथ दोबारा सत्ता में लौटेगी भाजपा

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) दो तिहाई से भी अधिक बहुमत के साथ दोबारा सत्ता में लौटता नजर आ रहा है।दोनों राज्यों में सोमवार को मतदान की समाप्ति के बाद विभिन्न टेलीविजन चैनलों के चुनाव विश्लेषण एजेंसियों के एग्जिट पोल में महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन की भारी जीत की संभावना व्यक्त की गयी है वहीं हरियाणा में भाजपा अपने बूते जबरदस्त जीत हासिल करने जा रही है। दोनों राज्यों में कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों को पिछड़ते दिखाया गया है। पेस रिसर्च की ओर से महाराष्ट्र की 288 में से 1०० विधानसभा क्षेत्रों के कुल 1,25,००० मतदाताओं का साक्षात्कार लिया गया जबकि हरियाणा की 9० में से 3० विधानसभा क्षेत्रों के कुल 37,5०० मतदाताओं के मूड का आंकलन किया गया। आकलन के मुताबिक महाराष्ट्र में राजग को 195 से 215, कांग्रेस को 6० से 8० और अन्य दलों को 9 से 18 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। इसी प्रकार हरियाणा में भाजपा को 65 से 75, कांग्रेस को 15 से 25 तथा अन्य पार्टियों को 1० से 15 सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की गयी है। दूसरी तरफ महाराष्ट्र की 288 सीटों में सीएनएन न्यूज 18 ने राजग को सर्वाधिक 243 सीटें दी हैं। इस चैनल ने कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) को 41 और अन्य को 4 सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की है। टाइम्स नाउ ने राजग को 23०, संप्रग को 48 तथा अन्य को 1० सीटें दी हैं। रिपब्लिक टीवी ने राजग को 223, संप्रग को 54 एवं अन्य को 11 सीटें दी हैं। एबीपी न्यूज ने राजग को 2०4 और संप्रग को 69 तथा अन्य को 15 सीट मिलने का अनुमान व्यक्त किया है। इंडिया टूडे ने राजग को 166 से 194 , संप्रग को 7० से 9० और अन्य को 22 से 34 सीटें दी हैं। हरियाणा की 9० सीटों में से इंडिया टीवी ने भाजपा को 73, कांग्रेस को 1० और अन्य को 7 सीटें दी हैं। सीएनएन न्यूज 18 ने भाजपा को 75, कांग्रेस को 1० और अन्य को 5 सीट मिलने का अनुमान व्यक्त किया है। एबीपी न्यूज ने भाजपा को 72 , कांग्रेस को 8 और अन्य को 1० सीटें दी हैं। टाइम्स नाउ ने भाजपा को 71, कांग्रेस को 11 और अन्य को 8 सीटें दी हैं। रिपब्लिक टी वी ने भाजपा को 52 से 63 , कांग्रेस को 15 से 19 और अन्य 12 से 19 सीटें मिलने का अनुमान व्यक्त किया है। महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना की गठबंधन सरकार है जबकि हरियाणा में भाजपा अपने बूते सरकार चला रही है।

गंगोह विधानसभा सीट पर सबसे अधिक 6०.3० फीसदी वोट पडे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की 11 विधानसभा सीटों के लिये सोमवार को सम्पन्न उप चुनाव में 47.०5 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 24 अक्टूबर को होगी और उसी दिन चुनाव परिणाम घोषित कर दिये जायेंगे।

सहारनपुर की गंगोह विधानसभा सीट पर सबसे अधिक 6०.3० फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था जबकि राजधानी लखनऊ की कैंट विधानसभा में सबसे कम 28.53 प्रतिशत वोट पड़े थे। इसके अलावा रामपुर में 44.०, अलीगढ़ की इगलास (सु) में 36.2०, कानपुर की गोविंदनगर में 32.6०, चित्रकूट की मानिकपुर में 52.1०, प्रतापगढ़ में 44.००, बाराबंकी की जैदपुर (सु) में 58.००, अम्बेडकर की जलालपुर में 58.8०, बहराइच की बल्हा (सु) में 52.०० तथा मऊ की घोसी में 51.०० प्रतिशत मतदान हुआ। सहारनपुर से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार गंगोह विधानसभा क्षेत्र में मतदाताओं में उत्साह देखा गया। यहां सूबे में सबसे अधिक मतदान हुआ, जो आमतौर पर शांतिपूर्ण रहा। कहीं से भी हिंसा, आगजनी और अनियमितताओं कीे खबर नहीं मिली है। इस सीट पर तीन लाख 7० हजार मतदाता हैं और कुल 11 उम्मीदवार मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे थे। इस सीट पर मुख्य मुकाबला भाजपा के चौधरी कीरत सिंह, कांग्रेस के नौमान मसूद, सपा के चौधरी रूद्रसैन और बसपा के चौधरी इरशाद अहमद के बीच है। यह सीट भाजपा विधायक प्रदीप चौधरी के कैराना लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद चुन लिए जाने से रिक्त हुई थी। मतदान आज काफी तेजी के साथ शुरू हुआ और बंद होने तक मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उत्साह के साथ प्रयोग किया। जिलाधिकारी आलोक पांडे, एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु, कमिश्नर संजय कुमार और डीआई उपेंद्र अग्रवाल समेत पूरा पुलिस प्रशासनिक अमला चुनाव को निष्पक्ष और शांतिपूर्ण रूप से कराने मेें मुस्तैद दिखा। इस उपचुनाव में 41 लाख से अधिक मतदाताओं को 1०9 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करना था। अलीगढ की इग्लास विधानसभा क्षेत्र के 1० मतदान केन्द्रो पर बुनियादी समस्यायों को लेकर मतदाताओं ने मतदान का बहिष्कार किया। दोपहर तीन बजे तक यहां मतदान का प्रतिशत शून्य था। जिलाधिकारी चन्द्रभूषण ने मतदाताओं को मौके पर पहुंच कर समझाया और उनकी समस्यायों के त्वरित निस्तारण का आश्वासन दिया, जिसके बाद लोग घरों से मतदान के लिये निकले। बहराइच की बलहा विधानसभा सीट के उपचुनाव में सोमवार को सुजौली क्षेत्र में 1०6 साल के बुजुर्ग ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। हरिहरपुर लालपुर गांव निवासी बुजुर्ग हर्षा सिंह अपने पोते मीतपाल के कंधों पर सवार होकर चार किमी दूर रमपुरवा मटेही गांव स्थित मतदान केन्द्र पहुंचे थे। वर्ष 1913 में जन्में हर्षा सिंह को मतदान केन्द्र पर देखकर प्रभारी निरीक्षक रामजी सिंह उन्हें पोलिंग बूथ तक सहारा देकर ले गये। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि विनोद कुमार ने बताया कि हर्षा सिंह क्षेत्र के सबसे उम्रदराज व्यक्ति है। इनके पुत्र, पोते और परपौत्रों को मिलाकर 63 लोगों का परिवार है। यह गांव के एक जागरूक मतदाता भी हैं। कानपुर से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार गोविंदनगर विधानसभा क्षेत्र में कई मतदान केन्द्रों पर ईवीएम और वीवीपैट मशीनों के खराब होने से मतदान कुछ समय तक बाधित रहा जिसके चलते कई लोग बगैर वोट डाले वापस लौट गये। कानपुर पब्लिक स्कूल इंटर कॉलेज में ईवीएम की गड़बड़ी से करीब 15 मिनट तक मतदान बाधित रहा जबकि महात्मा गांधी इंटर कॉलेज विजय नगर में ईवीएम और वीवीपैट की कनेक्टिविटी नहीं होने पर वीवीपैट बदला गया। पनकी के विद्युत परिषद इंटरमीडिएट कॉलेज, सीवी रमन इंटर कॉलेज, सिटी मॉडल स्कूल, हरमिलाप मिशन स्कूल में दिव्यांग मतदाताओं को व्हील चेयर न होने से समस्या हुई। इस बारे में निर्वाचन कंट्रोल रूम में शिकायतें मिलती रहीं। चित्रकूट के जिला अधिकारी शेषमणि पांडे ने यूनीवार्ता को बताया कि चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। सुबह मतदान की गति सुस्त रही लेकिन दिन चढने के साथ इसमें इजाफा होता गया। निर्धारित समय तक मतदान का प्रतिशत 52.8० हो गया है। पूरे मानिकपुर पाठा इलाके में मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया है। प्रतापगढ से प्राप्त सूचना के अनुसार यहां मतदान की रफ्तार शुरूआत में कुछ सुस्त रही लेकिन जिला प्रशासन की मुस्तैद रवैये से मतदाता घरों से बाहर निकलने शुरू हुये और शाम ढलते ढलते मतदान के प्रतिशत में सम्मानजनक बढोत्तरी हो चुकी थी। समाजवादी पार्टी (सपा) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिये नाक का सवाल बनी रामपुर विधानसभा क्षेत्र में मतदान की रफ्तार आमतौर पर सामान्य रही। यहां सपा और भाजपा के बूूथों पर सारा दिन खासी भीड देखी गयी जबकि अन्य दलों के बूथों पर सन्नाटा पसरा रहा। इस दौरान कुछ मौकों पर दोनो दलों के समर्थकों के बीच तीखी तकरार रही हालांकि वहां मौजूद सुरक्षा बलों ने समझा बुझा कर अलग कर दिया। राज्य की सभी 11 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी , बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं। सबसे अधिक 13 प्रत्याशी लखनऊ कैण्ट और जलालपुर सीटों पर हैं, जबकि रामपुर, इग्लास और जैदपुर में सबसे कम सात सात उम्मीदवार चुनाव मैदान में है। गोविन्दनगर और मानिकपुर में नौ-नौ, रामपुर, इगलास और जैदपुर में सात-सात प्रत्याशी किस्मत जमा रहे हैं। मतदान के दौरान 337 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 6० जोनल मजिस्ट्रेट,471 स्टेटिक मजिस्ट्रेट और 52० माइक्रो आब्जर्वर मौजूद रहे, जबकि 21 हजार 584 मतदानकर्मी चुनाव में लगे थे। मतदान में 5435 ईवीएम कंट्रोल यूनिट और 5435 बैलेट यूनिट के अलावा 5888वीवीपैट का इस्तेमाल किया गया। 429 बूथों पर वेबकास्ंिटग करायी गयी।

Share it
Top