कमलेश तिवारी के हत्यारों पर पांच लाख का इनाम...जल्द ही गिरफ्त में होंगे तिवारी के हत्यारे: डीजीपी

कमलेश तिवारी के हत्यारों पर पांच लाख का इनाम...जल्द ही गिरफ्त में होंगे तिवारी के हत्यारे: डीजीपी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिन्दूवादी नेता कमलेश तिवारी के हत्यारों की गिरफ्तारी पर ढाई-ढाई लाख रूपये के इनाम की घोषणा की है।

पुलिस महानिदेशक ओ.पी. सिंह ने सोमवार को कमलेश तिवारी के दो हत्यारों पर ढाई-ढाई लाख रूपये का इनाम घोषित किया। हिन्दूवादी नेता की पिछले शुक्रवार को नाका क्षेत्र के गणेशगंज स्थित आवास पर गला रेत कर हत्या कर दी गयी थी। पिछले तीन दिनो से हत्यारों की तलाश में जुटी पुलिस ने सोमवार को उनकी गिरफ्तारी पर इनाम घोषित किया है। पुलिस महानिदेशक ने भरोसा दिलाया कि जल्द ही इस जघन्य वारदात को अंजाम देने वाले पुलिस की गिरफ्त में होंगे। इस बीच हत्यारों की तलाश में विशेष जांच दल (एसआईटी) बरेली और मुरादाबाद गया था, लेकिन अब तक दोनों के बारे में उसे निराशा हाथ लगी है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि एसआईटी को सूचना मिली थी कि श्री तिवारी की हत्या के दौरान घायल हुए एक बदमाश ने बरेली के एक अस्पताल में अपना इलाज कराया था। इस सूचना पर एसआईटी के अस्पताल पहुंचने से पहले ही हत्यारे वहां से निकल चुके थे। दोनों के मोबाइल फोन के स्विच आफ होने से उनकी लोकेशन भी पता नहीं लग पा रही है। उधर गुजरात के सूरत में गिरफ्तार किये गये तीन साजिशकर्ताओं मौलाना मोहसिन शेख सलीम (24), फैजान (22) और राशिद पठान (23) को लखनऊ पुलिस रिमांड में लेकर पूछताछ कर रही है। तीनो को सोमवार सुबह अहमदाबाद से विमान द्वारा लखनऊ लाया गया। उन्हे पूछताछ के लिये अज्ञात स्थान पर ले जाया गया है। हिन्दू समाज पार्टी (हिसपा) अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के बारे में पुलिस अपने उस बयान पर बरकरार है कि उन्होने वर्ष 2०15 में पैगम्बर मोहम्मद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी जो उनकी हत्या की वजह बनी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को पीडित परिजनो से मुलाकात कर उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिलाया था।

कई होटलों और मदरसों में जमकर छापेमारी

शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी (हिसपा) अध्यक्ष कमलेश तिवारी के हत्यारों की तलाश में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने एक होटल की सीसीटीवी फुटेज में दो संदिग्धों के दिखाई देने पर सोमवार को यहां कई होटलों एवं मदरसों में छापेमारी की है। रेलवे स्टेशन के पास स्थित एक होटल के प्रबंधक राजेंद्र कुमार ने बताया कि हमें कोई भी जानकारी देने से एसआईटी के अधिकारियों ने मना किया है तथा लखनऊ से आए अधिकारियों ने होटल में लगे सीसीटीवी फुटेज देखी है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही सीसीटीवी फुटेज में दो संदिग्ध व्यक्ति रविवार रात 12:०० बजे रेलवे स्टेशन से शहर की ओर जाते हुए देखे गये हैं। माना जा रहा है कि रेलवे स्टेशन पर यह संदिग्ध गए और ट्रेन पता करने के बाद शहर की ओर चले गए। रोडवेज के स्टेशन अधीक्षक सुशील त्रिवेदी ने संवाददाताओं को बताया कि लखनऊ से आई एसआईटी टीम ने रोडवेज बस स्टैंड पर लगे सीसीटीवी कैमरा के संबंध में जानकारी ली और यह भी पूछा कि उनका नियंत्रण कहां से हो रहा है। इस दौरान टीम के सदस्यों ने रोडवेज पर यात्रियों के बीच संदिग्धों की पहचान करने का प्रयास भी किया। इस बीच पुलिस सूत्रों ने बताया की शहर में स्थित मदरसों में भी एसआईटी ने रात में ही छापेमारी की लेकिन हत्यारों की जानकारी नहीं हो पाई है। लखनऊ से यह एसआईटी की टीम को कमलेश तिवारी के हत्यारे की लोकेशन लखीमपुर खीरी के पलिया में मिली थी। एसआईटी जब वहां पहुंची तब तक हत्यारे वहां से पांच हजार में एक इनोवा कार बुक करके शाहजहांपुर के लिए निकल चुके थे। एसआईटी की टीम ने जब होटल के सीसीटीवी फुटेज देखे तो हत्यारे शहर की ओर जाते हुए नजर आये। इसके बाद से एसआईटी की टीम ने कई जगहों पर छापेमारी शुरू की। यह भी बताया जा रहा है पलिया से बुक करके लाई गई इनोवा कार व उसके चालक को पूछताछ के लिए एसआईटी ने हिरासत में ले लिया है। जिससे पूछताछ की जा रही है।

Share it
Top