देश की आजादी में सावरकर का बड़ा योगदान..सावरकर का विरोध करने वाले लोग गांधीजी की चिठ्ठी पर क्यों मौन हो जाते हैं? : रामदेव

देश की आजादी में सावरकर का बड़ा योगदान..सावरकर का विरोध करने वाले लोग गांधीजी की चिठ्ठी पर क्यों मौन हो जाते हैं? : रामदेव


नागपुर । स्वातंत्र्य वीर सावरकर को भारतरत्न देने के मुद्दे का विरोध करने वाले कांग्रेस समेत अन्य राजनीतिक दलों पर योगगुरु बाबा रामदेव ने तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने भी अंग्रेजों को पत्र लिखा था। इससे गांधीजी की राष्ट्रनिष्ठा पर संदेह नहीं जताया जा सकता। योगगुरु ने सवाल किया कि सावरकर का विरोध करने वाले लोग गांधीजी की चिठ्ठी पर क्यों मौन हो जाते हैं? उन्होंने कहा कि सावरकर ने अंग्रेजों को पत्र जरूर लिखा था, लेकिन यह उनकी जेल से बाहर आने की रणनीति का एक हिस्सा थी। देश की आजादी में सावरकर का बड़ा योगदान है।

योगगुरु रामदेव शनिवार को नागपुर एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। वह अमरावती जाने के लिए नागपुर एयरपोर्ट पहुंचे थे। बाबा रामदेव ने कहा कि सावरकर ने अंडमान की सेल्युलर जेल में अंग्रेजों की अनगिनत यातनाएं झेली थीं। भारत की आजादी में उनका बड़ा योगदान है। योगगुरु ने कहा कि देश को वैचारिक दिशा देना, खुद पर गौरव करना सावरकर ने हमें सिखाया है। हिंदुत्व की बात करना क्या अपराध है?

उल्लेखनीय है कि भाजपा ने महाराष्ट्र विधानसभा के चुनावी घोषणा-पत्र में विनायक दामोदर सावरकर, महात्मा फुले और सावित्रीबाई फुले को भारतरत्न दिलाने का वादा किया है। सावरकर का नाम सामने आते ही कांग्रेस समेत कुछ विपक्षी दलों ने देशभर में विरोध शुरू कर दिया है।

सावरकर के नाम का विरोध करने के लिए योगगुरु ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की भी आलोचना की है। डॉ. सिंह ने गुरुवार को मुंबई में कहा था कि कांग्रेस सावरकर के सिर्फ हिंदुत्व की विचारधारा की विरोधी है। इस पर योगगुरु ने सवाल किया कि इस्लाम और ईसाइयत की बात करना सही है, लेकिन हिंदुत्व की बात करना अपराध है? यदि हिंदुत्व की बात करना अपराध है तो यह अपराध हम सभी को करना चाहिए।

योगगुरु ने कहा कि देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह का कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा कि देश में आर्थिक चुनोतियां हैं, लेकिन उनका सामना करने के लिए मजबूत सरकार आवश्यक है। कुछ आर्थिक नीतियों में बदलाव जरूरी है। सरकार उस काम में लगी हुई है। मंदिर मुद्दे पर उन्होंने कहा कि राम मंदिर बनना अब सुनिश्चित है। यह हमारे आत्मसम्मान का मुद्दा है। रामदेव ने उम्मीद जतायी कि राम मंदिर भी सिर्फ मोदी और अमित शाह ही बनवा सकते हैं।


Share it
Top