पत्रकारों को मेट्रो में भी रियायत देने की डीजेए ने की मांग, केजरीवाल ने दिया आश्वासन

पत्रकारों को मेट्रो में भी रियायत देने की डीजेए ने की मांग, केजरीवाल ने दिया आश्वासन


नई दिल्ली। दिल्ली पत्रकार संघ (डीजेए) ने राष्ट्रीय राजधानी के सभी पत्रकारों के लिए दिल्ली मेट्रो रेल एवं दिल्ली परिवहन निगम की सभी बसों में नि:शुल्क यात्रा, अस्पतालों में बिना क्यू के इलाज, 25000 रुपये मासिक पेंशन और दिल्ली में पत्रकार भवन बनाने की केजरीवाल सरकार से मांग की है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डीजेए की मांग पर विचार करने का आश्वासन दिया है।

दिल्ली पत्रकार संघ (डीजेए) के अध्यक्ष मनोहर सिंह और महासचिव अमलेश राजू की अगुवाई में पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात कर उक्त मांग की। करीब 20 मिनट की मुलाकात में केजरीवाल इस बात पर सहमत थे कि दिल्ली में सभी पत्रकारों (गैर मान्यताप्राप्त को भी) को दिल्ली परिवहन निगम की सभी बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा मिले। उन्होंने कहा कि उनकी कोशिश है कि न केवल महिलाओं को बल्कि पत्रकारों को भी मेट्रो किराए में विशेष रियायत दी जाए। डीजेए पदाधिकारियों की मांगों को सुनने के बाद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने संकेत दिया कि अगर केंद्र सरकार से सहयोग मिले तो दिल्ली सरकार मेट्रो रेल में भी पत्रकारों को किराए में छूट दे सकती है।

डीजेए के प्रतिनिधिमंडल ने केजरीवाल से इस मुलाकात के दौरान उन्हें श्रमजीवी पत्रकारों के अधिकारों एवं हितों पर केन्द्रित अपना सात सूत्री मांगपत्र सौंपा। प्रतिनिधिमंडल ने पत्रकारों के हित में कई उन्य कदम उठाने की मांग भी की, जिस पर विचार करने का मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया।

डीजेए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कार्यरत 1500 से अधिक श्रमजीवी पत्रकारों का प्रतिनिधि संगठन है, जो 1972 से मूल्य आधारित पत्रकारिता को बढ़ावा देने के साथ श्रमजीवी पत्रकारों के अधिकारों एवं हितों के लिए प्रयासरत है। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से दिल्ली परिवहन निगम की बसों में सभी पत्रकारों यानि मान्यता प्राप्त और गैर मान्यताप्राप्त पत्रकारों को नि:शुल्क यात्रा करने की सुविधा प्रदान करने, इन्दिरा गांधी अन्तरराष्ट्रीय हवाई अडडे के लिए संचालित बसों में भी यह सुविधा प्रदान करने की मांग की।

इसके अलावा हरियाणा, बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश आदि राज्यों की तरह दिल्ली के पत्रकारों को भी 60 वर्ष की आयु पूर्ण होते ही मासिक पेंशन प्रदान करने की मांग की। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से मांग की कि 60 वर्ष की आयु पूर्ण करने वाले पत्रकारों के लिए 25000 रुपये की पेंशन निर्धारित करने की मांग की है।

इसके अलावा डीजेए ने दिल्ली सरकार से मांग की है कि सभी पत्रकारों (मान्यताप्राप्त, गैर मान्यताप्राप्त, डेस्क) के लिए सरकारी और निजी अस्पतालों में अलग प्रेस पंजीकरण काउंटर, जांच केन्द्रों तथा दवाई काउंटर पर पत्रकारों के लिए अलग से खिडकी की व्यवस्था की जाए और खिड़की के बाहर 'पत्रकार' शब्द अवश्य लिखा जाए ताकि सभी पत्रकार उसका लाभ ले सकें। इतना ही नहीं दिल्ली में पत्रकारों लिए बैठने एक 'पत्रकार भवन' का निर्माण कराने और अकेली रहने वाली अथवा अविवाहित महिला पत्रकारों के लिए विशेष हॉस्टल का निर्माण कराने की मांग भी मुख्यमंत्री से की गई। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल के द्वारा उठाए गए मुद्दों पर सहमति जताई और शीध्र समाधान का आश्वासन दिया।

प्रतिनिधिमंडल में मनोहर सिंह व अमलेश राजू के अलावा नवनिर्वाचित कार्यकारिणी से राजेंद्र स्वामी, उमेश चतुर्वेदी, नेत्रपाल शर्मा, संतोष सूर्यवंशी, श्रीनाथ मेहरा, प्रतिभा शुक्ला, प्रेरणा कटियार, आशुतोष कुमार सिंह, मिलन शर्मा, धर्मेद्र जागर और प्रियरंजन शामिल रहे।


Share it
Top