शाहजहांपुर: चिन्मयानंद ने रेप के अलावा छात्रा से फोन पर गंदी बात करने, शरीर पर मालिश कराने की बात कबूली

शाहजहांपुर: चिन्मयानंद ने रेप के अलावा छात्रा से फोन पर गंदी बात करने, शरीर पर मालिश कराने की बात कबूली


शाहजहांपुर । कानूनी छात्रा के साथ यौन शोषण के आरोप में आज सुबह गिरफ्तार किये गये पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता स्वामी चिन्मयानंद ने पुलिस के सामने अपना जुर्म कबूल कर लिया जबकि स्वामी से जबरन उगाही के आरोप में तीन और लोग गिरफ्तार किये गये हैं जिनमें दो पीडिता के रिश्तेदार हैं।

उच्चतम न्यालय के आदेश पर पूरे मामले की जांच कर रही एसआईटी के प्रमुख और पुलिस महानिरीक्षक नवीन अरोड़ा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि स्वामी चिन्मयानंद ने बलात्कार के अलावा सभी आरोप स्वीकार कर लिए हैं । उन्होंने कहा कि छात्रा से फोन पर गंदी बात करने और उससे शरीर पर मालिश कराने की बात स्वामी ने कबूल की है ।

स्वामी के सामने अंतिम पूछताछ में पीडित छात्रा ने कहा कि वो आगे इस मामले में शर्म के कारण ज्यादा कुछ नहीं कह सकती । एसआईटी प्रमुख ने कहा कि स्वामी ने छात्रा से 200 बार फोन पर बात की जिसका रिकार्ड मौजूद है । अरोड़ा ने कहा कि पुलिस ने चिन्मयानंद से जबरन उगाही के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें दो पीडिता का रिश्तेदार है । इन लोगों ने 5 करोड़ रूपए चिन्मयानंद से मांगे थे ओर इसके लिए उन्हें 4200 बार फोन किया था । दूसरी ओर पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि एसआईटी उच्चतम न्यायालय के आदेश पर काम कर रही थी । उनके काम में किसी भी तरह का हस्तक्षेप नहीं था। उन्होंने कहा कि जिसतरह लड़की का वीडियो वायरल हुआ था उसी तरह जबरन उगाही का भी वीडियो वायरल हो के सामने आया । लड़की और उसके दोस्त संजय ने स्वामी से पांच करोड़ रूपए मांगे थे ।

स्वामी चिन्मयानंद को आज सुबह उनके मुमुक्ष आश्रम के आवास से गिरफ्तार किया गया था जिसके बाद उन्हें मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ओमवीर सिंह की अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया । जांच एजेंसी के अधिकारी उन्हें जेल तक ले के आये ।

दूसरी ओर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने चिन्मयानंद की देर से गिरफ्तारी पर सवाल उठाये और कहा कि भाजपा में ही ऐसा होता है । गौरतलब है कि स्वामी सुखदेवानंद विधि महाविद्यालय में लॉ की छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो पोस्ट किया था। जिसमें उसने कहा था कि एक संन्यासी ने कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद कर दी। उसे और उसके परिवार को इस संन्यासी से जान का खतरा है।

इस मामले में लड़की के पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ यौन शोषण की शाहजहांपुर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। दूसरी ओर चिन्मयानंद के वकील की ओर से पांच करोड़ रुपये की रंगदारी का मामला दर्ज कराया गया था। उसके बाद छात्रा लापता हो गई थी और 30 अगस्त को उसे राजस्थान से बरामद किया था।

इस मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए उच्चतम न्यायालय ने राज्य को मामले की जांच कराने के आदेश दिए थे। उसके बाद सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था।

एसआईटी ने इस प्रकरण में चिन्मयानंद से करीब सात घंटे की पूछताछ की थी। छात्रा से भी कई घंटे पूछताछ की गई। छात्रा ने 164 के बयान के बाद एसआईटी को पैन ड्राइव सौंपा जिसमें सबूत के तौर पर करीब 43 वीडियों क्लिप हैं।

Share it
Top