बलात्कार के आराेपी चिन्मयानंद को संरक्षण दे रही है सरकार: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी

बलात्कार के आराेपी चिन्मयानंद को संरक्षण दे रही है सरकार: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी



नयी दिल्ली। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में बलात्कार पीड़ित युवती को भारतीय जनता पार्टी की सरकार कटघरे में खड़ा कर रही है और बलात्कार के आराेपी पार्टी के प्रभावशाली नेता चिन्मयानंद को संरक्षण दे रही है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को कहा कि भाजपा सरकार बलात्कार के आरोपी को संरक्षण देती रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में ही इसके दो ताजा उदाहरण देखने को मिले हैं जिनमें पहला राज्य के उन्नाव का है जहां बलात्कार के आरोपी अपने विधायक को बचाने का भाजपा सरकार शुरू से प्रयास करती रही। अब उसी तरह का दूसरा मामला राज्य के शाहजहांपुर का सामने आया है जहां भाजपा सरकार अपने बड़े नेता स्वामी चिन्मयानंद को बचाने के सभी हथकंडे अपना रही है।

श्रीमती वाड्रा ने ट्वीट किया "उन्नाव बलात्कार मामले में भाजपा सरकार और पुलिस की लापरवाही व आरोपी को सरंक्षण दिए जाने का हश्र सबके सामने है। अब भाजपा सरकार और उप्र पुलिस शाहजहाँपुर मामले में वही दुहरा रही है। पीड़िता भय में है।लेकिन भाजपा सरकार पता नहीं किस चीज का इंतजार कर रही है।"

बाद में कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी प्रवक्ता शर्मिष्ठा मुखर्जी तथा सुप्रिया श्रीनाटे ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि शाहजहांपुर मामले में राज्य सरकार दोहरा मापदंड अपना रही है। पीड़ित युवती की नहीं सुनी जा रही है और उसे कटघरे में खड़ा कर उससे 11 घंटे तक पूछताछ की गयी और जिन पर वह बलात्कार का आरोप लगा रही है उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

उन्होंने कहा कि सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए कि वह पीड़िता के साथ खड़ी है या जिन पर वह आरोप लगा रही है उनके साथ है। उन्होंने यह भी कहा कि जिस पुलिस अधिकारी को मामले की जांच का काम सौंपा गया है उसका काम पहले से संदिग्ध रहा है और उस पर भरोसा नहीं किया जा सकता है।

कांग्रेस प्रवक्ताओं ने आरोप लगाया कि महिला सुरक्षा को लेकर भाजपा जो बोलती है वह करती नहीं है। केंद्र और राज्यों की भाजपा सरकारों का रवैया महिला सुरक्षा को लेकर बहुत निराशाजनक है। बिहार, उत्तर प्रदेश जहां भी देखो लड़कियों के साथ न्याय नहीं हो रहा है और हर जगह भय का माहौल है। देश की बेटियां डरी हुई हैं और भय के माहौल में घरों से बाहर निकल रही हैं।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के साथ जो अपराध हो रहे हैं वे सामने नहीं आ रहे हैं। उन्होंने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकडाें का हवाला दिया और कहा कि बलात्कार के 99 प्रतिशत मामले दबा लिये जाते हैं। इसकी वहज यह है कि पीड़िता सामने आने का साहस करती है लेकिन आरोप चिन्मायानंद जैसे प्रभावशाली लोगों के खिलाफ होते हैं इसलिए मामला दबा लिया जाता है।

'बेटी बचाओ बेटी पढाओ' के नारे को उन्होंने खोखला बताया और कहा कि इसके लिए 2014-15 में 928 करोड़ रुपए की निधि आवंटित की गयी थी लेकिन इसका ज्यादा हिस्सा प्रचार प्रसार में चला गया और महज 19 प्रतिशत आवंटन ही राज्यों तथा जिलों तक पहुंचा है। विज्ञापनों में सरकार की प्रशंसा होती है लेकिन किसी विज्ञापन में महिला के खिलाफ अपराध नहीं करने को लेकर जागरूकता वाली बात नहीं होती है।

उन्होंने कहा कि सरकार इन मुद्दों को लेकर कुछ नहीं बोलती है और उसके मंत्री इन अपराधों के मामले में खामोश रहते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दूसरे सारे विषयों पर साक्षात्कार देंगे लेकिन इस मुद्दे पर चुप्पी साधे रहते हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं में जो डर का माहौल है उसे दूर करने के लिए श्री मोदी को खामोशी तोड़नी चाहिए।

Share it
Top