सरकार के कड़े फैसले जनता की भलाई के लिए ही: अमित शाह

सरकार के कड़े फैसले जनता की भलाई के लिए ही: अमित शाह

नई दिल्ली। केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा है कि देश की समस्याओं को सुलझाने के लिए कई बार कड़े फैसले लेने पड़ते हैं और इनसे कुछ समय के लिए परेशानी होती है, लेकिन ये सब जनता की भलाई और देश के विकास को ध्यान में रख कर लिए जाते हैं। श्री शाह ने मंगलवार को यहां अखिल भारतीय प्रबंधन परिसंघ (आइमा) के 46 वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत की वैश्विक स्तर पर नई पहचान बनी है और पूरा विश्व भारत की आवाज को सुनता है और उन्होंने एक नए भारत की कल्पना की है जो समृद्ध और हर तरह से सक्षम हो। उन्होंने कहा कि आज श्री मोदी का जन्मदिन ह और हम सभी यही कामना करते हैं कि वह स्वस्थ रहें और लंबे समय तक देश का नेतृत्व करते रहें। श्री शाह ने कहा कि आज ही के दिन सरदार पटेल ने हैदराबाद को निजाम के शासन से मुक्ति दिलाकर उसे भारतीय संघ का हिस्सा बनाकर अपनी दृढ़ नीति का परिचय दिया था और श्री मोदी ने उन्हीं की तरह नए भारत की कल्पना की है और कुछ लक्ष्य भी तय किए हैं। श्री शाह ने कहा कि आज से पांच वर्ष पहले भारत की स्थिति कुछ और थी और अब 2०19 का भारत अपने आप में इतना सक्षम है कि अपनी सुरक्षा की खातिर सर्जिकल स्ट्राइक करके दुश्मनों में खौफ पैदा करने से भी पीछे नहीं हटता है और यह सब श्री मोदी जी के नेतृत्व में ही संभव हो सका है। श्री शाह ने कहा, '2०13 में देश की हालत क्या थी, सब को पता है जब गठबंधन वाली एक लाचार सरकार के शासन काल में दुश्मन हमारे सैनिकों के सिर काटते से भी बाज नहीं आते थे और उस सरकार में एक प्रधानमंत्री थे, लेकिन मंत्रिमंड़ल का हर मंत्री अपने आपको प्रधानमंत्री से कम नहीं मानता था। उस समय देश की आर्थिक हालत बहुत दयनीय थी और आंतरिक स्तर पर भी स्थिति खराब थी।Ó गृह मंत्री ने कहा कि श्री मोदी हमेशा देश की जनता के कल्याण की बात सोचते हैं और यही कारण है कि 2०14 में सत्ता में आते ही उन्होंने गरीब लोगों की बैंकिंग सेक्टर तक पहुंच बनाने के लिए जनधन योजना के तहत सभी के बैंक खाते खुलवाए और देश में 2०13 के मात्र 58 प्रतिशत के मुकाबले इस समय 99़ 4 प्रतिशत लोगों के बैंक खाते हैं। यह सरकार गरीबों की हितैषी सरकार है और 2०14 से पहले देश में गैस कनेक्शन 13 करोड थे जो अब बढ़कर 27 करोड़ हो गए हैं।

Share it
Top