श्रीनगर में सचिवालय और अन्य दफ्तर खुले, जल्द मिल सकती है अन्य पाबंदियों में ढील

श्रीनगर में सचिवालय और अन्य दफ्तर खुले, जल्द मिल सकती है अन्य पाबंदियों में ढील



श्रीनगर। श्रीनगर में जम्मू-कश्मीर सरकार का सचिवालय और अन्य दफ्तर शुक्रवार को खुल गए। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राज्य में गुरुवार शाम सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के बाद सरकारी सचिवालय और अन्य कार्यालयों में सामान्य कामकाज बहाल किए जाने का निर्देश दिया था। माना जा रहा है कि सोमवार को घाटी में भी शिक्षण संस्थान खुल सकते हैं। शिक्षण संस्थानों को चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा। पहले उन इलाकों में स्कूल खोले जाएंगे, जो संवेदनशील की श्रेणी में नहीं आते हैं। प्रत्येक जिला उपायुक्त और जिला एसएसपी अपने स्तर पर स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर ही इस संदर्भ में अंतिम फैसला लेंगे। इस संदर्भ में राज्य शिक्षा विभाग के अधिकारियों, विभिन्न स्कूलों के प्रबंधकों और प्रिंसिपल की एक बैठक शनिवार को बुलाई गई है। घाटी में पांच अगस्त से कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के मद्देनजर ठप रखी गई टेलीफोन सेवा भी सोमवार को बहाल हो सकती है।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 व 35ए हटाए जाने व स्वतंत्रता दिवस मनाये जाने के एक दिन बाद भी कश्मीर घाटी में सभी स्कूल, कालेज व अन्य शिक्षा संस्थान बंद हैं इस दौरान मोबाइल सेवा, मोबाइल इंटरनेट सहित दूरभाष सेवा व टीवी केबल, ज्यादातर दुकानें, बाज़ार व व्यापारिक प्रतिष्ठान भी बंद हैं। सड़कों पर केवल नीजि वाहन ही चल रहें हैं जबकि सार्वजनिक वाहन अभी भी बंद हैं। कश्मीर घाटी में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबलों के जवानों को तैनात किया गया है ताकि किसी भी अप्रिय घटना को घटने से रोका जा सके। माना जा रहा है कि आज के बाद से कश्मीर घाटी में धीरे-धीरे व चरणबद्ध तरीके से पाबंदियां हटना शुरू हो जाएंगी।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 व 35ए हटाए जाने के बाद से ही कश्मीर घाटी में तनाव की स्थिति बनी हुई है जम्मू में पांच दिनों तक धारा 144 लागू रखने के बाद हटा ली गई थी। जम्मू में अभी भी मोबाइल इंटरनेट सेवा को स्थगित रखा गया है जबकि सभी स्कूल, कालेज, व्यापारिक प्रतिष्ठान, यातायात व सरकारी कार्यालय सामान्य रूप से शुरू हो गए है वहीं जम्मू संभाग के ही डोडा, किश्तवाड़, पुंछ, राजौरी व बनिहाल में चरणबद्ध तरीके से प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है।


Share it
Top