'फूट डालो और राज करो' की तर्ज पर नफरत फैला कर लोगो को बांट रही है भाजपा: अखिलेश

फूट डालो और राज करो की तर्ज पर नफरत फैला कर लोगो को बांट रही है भाजपा: अखिलेश


इटावा । समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा अंग्रेजो के 'फूट डालो और राज करो' की तर्ज पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार अपने राजनीतिक फायदे के लिये देश में नफरत का माहौल तैयार कर लोगों को बांट रही है।

यादव ने गुरूवार को अपने पैतृक गांव सैफई से लखनऊ के लिये रवाना होने से पहले कहा कि आजादी से पहले फूट डालो राज करो का जो फार्मूला अंग्रेजी हुकूमत ने अपनाया था,उसका अनुसरण कर भाजपा आज नफरत फैला कर लोगो को बांट कर राज कर रही है । जब जब चुनाव आता है भाजपा नेता जलन की राजनीति करके,नफरत फैला कर सत्ता हासिल करने का कुत्सिग राग अलापते है ।

कार्यकर्त्ताओ को नसीहत देते हुए यादव ने कहा कि झूठ बोलने वाला अच्छे कपड़े पहनता है तभी तो हर आदमी उसकी बात पर यकीन कर लेता है । सपेरों की बदहाल जिंदगी का जिक्र करते हुए कहा कि भारत को सपेरों का देश भी कहा जाता था जो भारत की असली पहचान माने जाते हैं लेकिन बदकिस्मती इस बात की है कि असली पहचान माने माने जाने वाले सपेरे बदहाली की जिंदगी बसर करने को मजबूर है । इन सपेरों के पास ना तो आज जमीन है और ना ही जिंदगी को चलाने के लिए कोई रोजी रोजगार ।

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को आज अनुशासन ओर प्रशिक्षण की बहुत जरूरत है । उनकी जानकारी में ऐसा आया है कि एक कार्यकर्ता दूसरे कार्यकर्ता को पार्टी के बड़े नेताओं से मिलने देने में बाधा खड़ी कर रहा है । इस प्रवृत्ति से हमको बचना चाहिए और दूसरे कार्यकर्ताओं को भी मौका देना चाहिए तभी कार्यकर्ता का सम्मान हो सकता है और उस कार्यकर्ता की इज्जत भी दूसरे कार्यकर्ता के प्रति बढ़ेगी ।

विरोधी दलों के कामकाज की चर्चा करते हुए कहा कि विरोधियों को अगर हराना है तो उनसे अच्छा काम करने की जरूरत है पर ऐसा तभी संभव हो सकेगा कि जब हम उनसे अच्छा काम करेंगे । हमको अपने विरोधियों से अच्छा काम करना पड़ेगा तभी हम कामयाब हो सकते हैं अन्यथा हम विरोधी के सामने पिछड़ते ही रहेंगे ।

उन्होंने कहा कि जिन बूथ प्रभारियों की छवि खराब है । वह किसी भी सूरत में भरोसेमंद नहीं है क्योंकि उनके वजह से ही गांव में जनाधार खिसकता है ऐसे में इन बूथ प्रभारियों पर ध्यान देने की बेहद जरूरत है ।

यादव ने कहा कि भले ही तीन तलाक पर कानून आ गया हो लेकिन सरकार यह बता पाने की स्थिति में नहीं है कि देश में 40 लाख से अधिक महिलाएं वेश्यावृत्ति में संलिप्त हैं उनके लिए सरकार ने आखिरकार अभी तक क्या किया है । कल तक नौकरियों लोगो के सामने थी लेकिन आज सरकार ने आरक्षण प्रक्रिया को इतना जटिल कर दिया है । ऐसे में नौकरियां बड़ी मुश्किल से लोगों को मिल सकेगी । इसलिए आने वाले समय में दूसरे की बातों पर भरोसा करने के बजाय अपने काम पर यकीन अधिक करें ।

उन्होंने दावा किया कि फिलहाल लड़ाई बहुत ही लंबी है फिर भी इन सबके बावजूद 2022 में रास्ता खुलेगा । नौकरियों के लिए सरकार आने पर कोई बेहतर इंतज़ाम करना पड़ेगा क्यों कि आज के समय मे सरकारी नौकरियां कही भी नही है । दुनिया मे अगर सबसे निराश नौजवान कही का है तो वो जगह अपना भरता देश ही है ।


Share it
Top