मुख्यमंत्री योगी को बालिकाओं ने बांधी राखी, उपहार ​में मिले स्कूल बैग

मुख्यमंत्री योगी को बालिकाओं ने बांधी राखी, उपहार ​में मिले स्कूल बैग


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सरकारी आवास पर रक्षाबंधन के पावन पर्व पर गुरुवार को आयोजित एक कार्यक्रम में विभिन्न स्कूलों की बालिकाओं ने मुख्यमंत्री को राखी बांधी। मुख्यमंत्री ने बालिकाओं को उपहार स्वरूप स्कूल बैग, पेंसिल बाॅक्स तथा वाॅटर बाॅटल भेंट की। इस मौके पर बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का दिन अत्यन्त महत्वपूर्ण है। क्योंकि आज के दिन स्वाधीनता दिवस और रक्षाबंधन का पावन पर्व, दोनों है। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर हम सभी को बिना किसी भेदभाव के आपस में जुड़कर हर व्यक्ति को मुख्य धारा से जोड़कर आगे बढ़ने का संकल्प लेना चाहिए।

रक्षाबंधन का पर्व हजारों वर्ष की परम्परा का पर्व

उन्होंने कहा कि समाज को जोड़ने में भारत की परम्परा का बड़ा योगदान है। रक्षाबंधन का पर्व हजारों वर्ष की परम्परा का पर्व है। रक्षाबंधन के पर्व पर बांधी जाने वाली रक्षा केवल सूत्र मात्र नहीं है, बल्कि संकल्प है। यह पारस्परिक बन्धुता को सुदृढ़ करने वाला तथा सम्बन्धों को प्रगाढ़ता प्रदान करने वाला पर्व है। यह पर्व यह भी प्रमाणित करता है कि भारतीय संस्कृति की जड़ें अत्यन्त गहरी हैं तथा हमारे समाज को स्पन्दन प्रदान करती हैं।

उत्तर से दक्षिण और पूरब से पश्चिम तक अब भारत हुआ एक

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह स्वाधीनता दिवस कई मामलों में विशिष्ट है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के ऐतिहासिक व साहसिक निर्णय से जम्मू व कश्मीर 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का हिस्सा बना है। वर्तमान में उत्तर से दक्षिण और पूरब से पश्चिम तक भारत एक है। हमारी परम्परा में नारी के सम्मान को महत्वपूर्ण और प्रगति के लिए आवश्यक माना गया है। नारी की गरिमा और सम्मान की रक्षा के लिए कानून बनाकर असंख्य बहनों को तीन तलाक की पीड़ा से मुक्ति दिलायी गयी है।

घर या बाहर नारी के विरुद्ध कहीं पर नहीं हो हिंसा

उन्होंने कहा कि नारी गरिमा के लिए सामूहिक प्रयास आवश्यक है। यह हम सभी का सामूहिक दायित्व है कि नारी के विरुद्ध घर या बाहर कहीं पर हिंसा नहीं हो। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश की दृष्टि से भी यह वर्ष महत्वपूर्ण रहा है। प्रयागराज में दिव्य व भव्य कुम्भ का आयोजन हुआ है। इसमें 24 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया। प्रयागराज कुम्भ-2019 में स्वच्छता, सुव्यवस्था, सुरक्षा का नया मानक बनाया है। इसने देश व दुनिया को भारत की बढ़ती हुई शक्ति का भी एहसास कराया है।

स्वच्छता से जानलेवा बीमारियों पर प्रभावी नियंत्रण

उन्होंने कहा कि प्रयागराज कुम्भ-2019 की तरह हम अपने आसपास के वातावरण को भी स्वच्छ कर सकते हैं। स्वच्छता हमारे स्वास्थ्य से भी जुड़ी है। स्वच्छता को अपनाने से बीमारियों के प्रभाव को रोका जा सकता है। राज्य सरकार द्वारा संचालित स्वच्छता कार्यक्रमों से कई जानलेवा बीमारियों पर प्रभावी नियंत्रण किया गया है।


Share it
Top