मुम्बई से बेंगलुरु पहुंचे कर्नाटक के बागी विधायक...उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष होंगे उपस्थित

मुम्बई से बेंगलुरु पहुंचे कर्नाटक के बागी विधायक...उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष होंगे उपस्थित

बेंगलुरू। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष के. आर. रमेश कुमार के समक्ष उपस्थित होने के लिए विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले विधायकों का एक दल चार्टर्ड विमान से मुंबई से गुरुवार को अपराह्न यहां पहुंचा। शीर्ष अदालत ने बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई करते हुए उन्हें विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष उपस्थित होने का आज पूर्वाह्न आदेश दिया। इन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष पर अपने इस्तीफे को स्वीकार करने में देरी करने का आरोप लगाते हुए न्यायालय में याचिका दाखिल की थी। सूत्रों के अनुसार कुछ अन्य बागी विधायक आज शाम किसी भी समय यहां पहुंच सकते हैं। शीर्ष अदालत ने बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई के बाद उन्हें आज शाम तक विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष उपस्थित होने का आदेश दिया था। साथ ही विधानसभा अध्यक्ष को इन विधायकों की बात सुनने के बाद फैसला लेने को कहा था। श्री रमेश कुमार ने हालांकि शीर्ष अदालत में दायर अपनी एक याचिका में इस बारे में फैसला लेने के लिए और समय की मांग की है और कहा है कि विधायकों के इस्तीफे के बारे में जल्दबाजी में फैसला नहीं लिया जा सकता है। वह इस संबंध में मौजूद नियम और कानून का उल्लंघन नहीं कर सकते। विधानसभा अध्यक्ष ने न्यायालय में इस मामले तत्काल सुनवाई करने की अपील थी, जिसे शीर्ष अदालत ने खारिज कर दिया और विधानसभा अध्यक्ष से कहा कि वह इस बारे में उचित फैसला लें और इस मामले की शुक्रवार को सुनवाई होगी। इन विधायकों को एचएएल हवाई अड्डे से विधानसभा सौध पहुंचाने के लिए मार्ग में यातायात को पूरी तरह से बंद रखा। साथ ही विधान सौध की तीसरी मंजिल पर स्थित विधानसभा अध्यक्ष के कक्ष के अलावा भारतीय जनता पार्टी के विधायकों और सभी कक्षों में सार्वजनिक तौर पर प्रवेश वर्जित किया गया है। इसके विरोध में भाजपा विधायकों की पुलिस से हल्की झड़प हुई। भाजपा विधायकों का कहना था कि उन्हें विधानसभा अध्यक्ष के कक्ष में प्रवेश करने की अनुमति दी जाए या फिर वहां मौजूद कांग्रेस वी. एस. उगरप्पा और कोना रेड्डी को भी बाहर निकाला जाये। इस बीच, अध्यक्ष ने जेडीएस से अपने विधायकों नारायण गौड़ा, एच विश्वनाथ और गोपालैया के अयोग्य घोषित करने की याचिका पर सुनवाई पूरी की, जिन्होंने अपने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है। बागी विधायकों की बैठक से पहले एक और बागी विधायक रोशन बेग ने भी विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात की थी, हालांकि उन्होंने दो मिनट की मुलाकात की थी।

Share it
Top