शामली में रिपोर्टिंग के लिए पहुंचे पत्रकार की रेलवे पुलिस ने कर दी बुरी तरह पिटाई, डीजीपी ने एसएचओ और कांस्टेबल को किया निलंबित

लखनऊ। शामली से एक पत्रकार को पीटे जाने का मामला सामने आया है। यहां एक निजी न्यूज चैनल में स्ट्रिंगर अमित शर्मा डीरेल हुई मालगाड़ी को रिपोर्ट करने पहुंचे थे तभी जीआरपी पुलिसकर्मियों ने उनकी बुरी तरह पिटाई कर दी। अमित जब अपने मोबाइल से फुटेज ले रहे थे तभी जीआरपी पुलिस इंस्पेक्टर ने उनका मोबाइल छीन लिया और उनके साथ मारपीट की। इसके बाद अमित को रात भर थाने में बैठाए रखा गया। साथी पत्रकारों के धरने के बाद सुबह उन्हें छोड़ा गया। अमित को पीटे जाने का भी एक वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिसकर्मी उन्हें घूंसों से मारते हुए दिख रहा है।

पत्रकार अमित शर्मा ने बताया, ''वे सादे कपड़ों में थे। एक ने उन्हें मारा तो कैमरा गिर गया । जब उसे उठाने लगा तो उन्होंने मुझे मारा और गालियां दीं। मुझे लॉकअप में बंद कर दिया गया, फोन छीन लिया गया और उन्होंने मेरे मुंह में पेशाब कर दिया।"

पत्रकार को पीटे जाने के इस मामले में यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने तत्काल प्रभाव से शामली जीआरपी एसएचओ राकेश कुमार और कांस्टेबल संजय पवार को निलंबित कर दिया है।

बता दें शामली रेलवे विभाग की लापरवाही के चलते धीमानपुरा रेलवे फाटक के पास मंगलवार रात करीब साढ़े आठ बजे ट्रेक शंटिग (ट्रेक बदलना) के दौरान मालगाड़ी के दो डिब्बे पटरी से उतर गए थे। मालगाड़ी के डिब्बे उतरने से जोरदार धमाका हुआ जिससे आसपास के यात्री डर गए। इस घटना में ट्रेक भी क्षतिग्रस्त हो गया और काफी देर तक रेल यातायात बाधित रहा। साथ ही दूसरा रेलवे फाटक बंद होने से सड़क यातायात भी बाधित हो गया। रेलवे के अधिकारी एवं इंजीनियरिंग विभाग की टीम देर रात तक मौके पर लगी रही।

इस मामले मामले का संज्ञान लेते हुए पुलिस अधीक्षक (एसपी) (जीआरपी), मुरादाबाद, सुभाष चंद्र दुबे ने जीआरपी इंस्पेक्टर राकेश कुमार और कांस्टेबल संजय पवार को सस्पेंड कर दिया है। और मामले को एसपी (जीआरपी), मुरादाबाद को सौंप दिया गया है और 24 घंटे के भीतर इस संबंध में एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई ।

Share it
Top