मसूद अजहर पर चीन का था मत स्थगन ,प्रस्ताव खारिज नहीं हुआ

मसूद अजहर पर चीन का था मत स्थगन ,प्रस्ताव खारिज नहीं हुआ


नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आंतकवादी घोषित नहीं किया है पर भारत को उम्मीद है कि एक दिन उसे ऐसा कराने में अवश्य सफलता मिलेगी। इस मामले में चीन ने वीटो का इस्तेमाल करते हुए मसूद अजहर को फ़िलहाल चौथी बार बचा तो लिया है पर उसने अपने मत को रोके रखा है जिसका यह मतलब नहीं है कि प्रस्ताव खारिज हो गया है।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि हालांकि भारत को चीन के इस रवैये से निराशा हुई है पर सुरक्षा परिषद में भारत अभी भी 1267 सदस्यों के साथ मिलकर प्रयासरत हैं। 15 में से 14 देशों के सदस्यों ने भारत को समर्थन दिया है। उनका कहना है कि मसूद अजहर को जरूर प्रतिबंधित कराया जाएगा , चाहे इसमें कितना भी और समय लगे।

इस बारे में अन्य देशों द्वारा चीन और भारत से बात किए जाने के सवाल पर भारत का कहना है कि चीन से बात करने के लिए तीसरे देश की जरूरत नहीं है। चीन को पाकिस्तान के साथ कई मुद्दों को सुलझाना है।

उल्लेखनीय है कि भारत के लिए आतंकवाद एक ऐसा मुद्दा है जिस पर समझौता नहीं किया जा सकता। भारत ने पुलवामा हमले के बाद सुरक्षा परिषद के पांच सदस्यों सहित तमाम देशों को इस बारे में विस्तृत जानकारियों से अवगत कराया है जिसकी सभी ने सराहना की है।

Share it
Top