समाजवादी पार्टी ने जारी की प्रत्याशियों की सूची....कैराना से तबस्सुम पर भरोसा कायम, गाजियाबाद संसदीय क्षेत्र से सुरेन्द्र कुमार उर्फ मुन्नी शर्मा को मैदान में उतारा

समाजवादी पार्टी ने जारी की प्रत्याशियों की सूची....कैराना से तबस्सुम पर भरोसा कायम, गाजियाबाद संसदीय क्षेत्र से सुरेन्द्र कुमार उर्फ मुन्नी शर्मा को मैदान में उतारा

लखनऊ। लोकसभा चुनाव को लेकर प्रत्याशियों के चयन में फूंक-फूंक कर कदम रख रही समाजवादी पार्टी (सपा) ने शुक्रवार उत्तर प्रदेश के लिये अलग- अलग दो सूची जारी कर पांच उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की।

पार्टी कार्यालय से सुबह जारी हुई सूची में विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह को गोंडा का टिकट दिया गया, जबकि राम सागर रावत को बाराबंकी सुरक्षित सीट का उम्मीदवार घोषित किया गया। मुस्लिम बाहुल्य कैराना संसदीय क्षेत्र से तबस्सुम हसन पर एक बार फिर पार्टी ने भरोसा जताया, वहीं संभल संसदीय क्षेत्र से शफीकुर रहमान बर्क सपा के टिकट से चुनाव मैदान पर दिखेंगे। शाम को जारी एक अन्य सूची में गाजियाबाद संसदीय क्षेत्र से सुरेन्द्र कुमार उर्फ मुन्नी शर्मा को पार्टी ने अपना उम्मीदवार बनाया है। तबस्सुम हसन ने कैराना में हुए उपचुनाव में राष्ट्रीय लोकदल के चुनाव चिन्ह पर दिवंगत भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता हुकुम सिंह की पुत्री को शिकस्त दी थी। वर्ष 2014 के चुनाव में कैराना में भाजपा के हुकुम सिंह विजयी हुए थे, लेकिन श्री सिंह के निधन के बाद भाजपा उपचुनाव में यह सीट बरकरार नहीं रख सकी थी। इससे पहले सपा ने पिछले मंगलवार को जारी सूची में हाथरस से रामजी लाल सुमन और मिर्जापुर से राजेंद्र एस. बिंद का नाम सार्वजनिक किया था। पार्टी की दूसरी सूची में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव को कन्नौज, पूर्वी वर्मा को खीरी और उषा वर्मा को हरदोई से प्रत्याशी बनाया गया था। सपा के उम्मीदवारों की पहली सूची में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव को मैनपुरी से उम्मीदवार घोषित किया गया था। इसके अलावा धर्मेंद्र यादव बदायूं से, अक्षय यादव को फिरोजाबाद से, शब्बीर वाल्मीकि बहराइच से, भाईलाल कोल रॉबट््र्सगंज से और कमलेश कठेरिया इटावा से उम्मीदवार बनाया गया था। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में गठबंधन के तहत सपा 37 और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) 38 सीटों पर चुनाव लडऩे जा रही है। कैराना का लोकसभा उपचुनाव जीतने वाले राष्ट्रीय लोकदल को भी इस गठबंधन में शामिल किया गया है और उसे तीन सीटें दी गई हैं। गठबंधन ने कांग्रेस के प्रभुत्व वाले अमेठी और रायबरेली में अपने उम्मीदवार न उतारने की घोषणा की है।

Share it
Top