यूपी सरकार ने आईपीएस अधिकारी जसवीर सिंह को किया सस्पेंड, कभी सीएम योगी पर लगाया था रासुका

यूपी सरकार ने आईपीएस अधिकारी जसवीर सिंह को किया सस्पेंड, कभी सीएम योगी पर लगाया था रासुका


लखनऊ। योगी सरकार ने मंगलवार को 1992 बैच की आईपीएस अधिकारी जसवीर सिंह को सस्पेंड कर दिया है। जानकारी के मुताबिक 30 जनवरी को हफिंगटन पोस्ट को दिए गए विवादित इंटरव्यू के चलते एडीजी पर सस्पेंशन की कार्रवाई की गई है। बता दें कि जसवीर सिंह ने 2002 में महराजगंज एसपी रहते सीएम योगी पर रासुका के तहत कार्रवाई की थी। वहीं सीएम योगी पर रासुका लगाने के दूसरे दिन जसवीर सिंह का तबादला फूड सेल में हो गया था। वर्तमान में जसवीर सिंह लखनऊ में एडीजी रूल्स मैनुअल के पद पर तैनात हैं।

हफिंगटन पोस्ट को दिए इंटरव्यू में जसवीर सिंह ने कहा था कि मैं एक आईपीएस अफसर हूं, इसलिए अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं कर सकता। यूपी कैडर में तैनात जसवीर सिंह वर्ष 1997 में तब सुर्खियों में आए, जब वह पुलिस अधीक्षक प्रतापगढ़ नियुक्त हुए, और कुंडा के विधायक राजा भैया पर शिकंजा कसा। इस घटना से जनता तो खुश हुई, लेकिन सियासी लोगों का दाना पानी बंद होने लगा।

यहीं कारण है कि कुछ दिनों के भीतर ही जसवीर सिंह को प्रतापगढ़ से हटा दिया गया। यहीं से जसवीर सिंह का भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग और तेज हो गई। इससे पहले आईपीएस जसवीर सिंह के कहा, 'देश सर्वोपरि है।' राष्ट्र कार्य सर्वोपरि है। इसके लिए किसी प्रकार का बलिदान देने के लिए अधिकारियों को तत्पर रहना चाहिए।

Share it
Top