वाराणसी: किसानों ने अपने खून से लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, ट्रांसपोर्ट नगर योजना रद्द करने की मांग

वाराणसी: किसानों ने अपने खून से लिखा प्रधानमंत्री को पत्र, ट्रांसपोर्ट नगर योजना रद्द करने की मांग


वाराणसी। मोहनसराय ट्रांसपोर्ट नगर योजना से प्रभावित किसानों ने रविवार को एक बार फिर अपने खून से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा। किसानों ने योजना को रद्द कर अपनी जमीन वापस मांगी।

रोहनिया क्षेत्र के बैरवन गांव स्थित एक बगीचे में प्रभावित गांव बैरवन, कन्नाडाडी, सरायमोहन एवं मिल्कीचक के किसान जुटे। किसान कांग्रेस के नेता विनय शंकर राय मुन्ना के अगुवाई में किसानों ने अपने खून से प्रधानमंत्री को पत्र लिखा। इस दौरान विनय शंकर राय ने कहा कि प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र के किसान लगातार अपने अधिकार के लिए प्रधानमंत्री से गुहार लगा रहे हैं। लेकिन इसे अनसुना किया जा रहा हैं। हमें वैधानिक अधिकार अपनी जमीन पर चाहिए । प्रभावित किसानों को सरकारी योजना का लाभ नही अपनी जमीन पर वैधानिक अधिकार चाहिए।

कांग्रेस नेता ने कहा कि भूमि अधिग्रहण कानून 2013 के तहत ट्रांसपोर्ट नगर योजना रद्द करके मोहनसराय ट्रांसपोर्ट नगर से प्रभावित 1194 किसानों की जमीन वैधानिक रुप से वापस किया जाए। प्रभावित किसानों को बजट के अनुसार 6000 रुपये सालाना नही चाहिए। राय ने दावा किया कि विरोध प्रदर्शन में जुटे 200 पुरुष एवं 165 महिला किसानों ने अपना अपना खून निकाल कर के प्रधानमंत्री को खून से पत्र लिखा हैं।

इसमें बिटना देवी, दिनेश तिवारी, बद्री यादव, शैलेश श्रीवास्तव, विजय पटेल, हरिशंकर पटेल, धनीराम पटेल, सुंदर पटेल, भाई लाल, संजय आदि शामिल रहे।


Share it
Top