सुप्रीम कोर्ट से उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता डीपी यादव को राहत नहीं, अंतरिम जमानत की अर्जी खारिज

सुप्रीम कोर्ट से उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता डीपी यादव को राहत नहीं, अंतरिम जमानत की अर्जी खारिज


नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता डीपी यादव की उम्रकैद की सजा को निलंबित कर अंतरिम जमानत देने की अर्जी खारिज कर दी है।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि वो यादव को दी गई सजा को निलंबित नहीं कर सकते और अपील की जल्द सुनवाई कर सकते हैं। कोर्ट ने यह भी कहा कि जेल में डीपी यादव का ख्याल रखा जा सकता है।

डीपी यादव ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उनकी सर्जरी हुई है और सर्जरी के बाद उन्हें मेडिकल केयर की जरूरत है। वैसे भी उनकी अपील लंबित है। इसलिए सुप्रीम कोर्ट उनकी सजा को निलंबित करे लेकिन कोर्ट ने इस मांग को ठुकरा दिया।

24 अक्टूबर,2018 को सुप्रीम कोर्ट ने डीपी यादव को 19 नवंबर,2018 को देहरादून जेल में सरेंडर करने का निर्देश दिया था। यादव हत्या के एक मामले में देहरादून की जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं।

डीपी यादव की स्पाइनल सर्जरी 19 अक्टूबर,2018 को हुई थी। उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले 18 सितंबर,2018 को डीपी यादव को सर्जरी कराने के लिए 15 दिन की अंतरिम जमानत दी थी। डीपी यादव को एक हत्या के मामले में ट्रायल कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी। डीपी यादव देहरादून की जेल में बंद थे। उनका ऑपरेशन ऋषिकेष के एम्स अस्पताल में होना था लेकिन उन्हें हार्ट की बीमारी का भी इलाज कराना था, जिसके लिए वे गाजियाबाद के यशोदा सुपर स्पेशियालिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसी बीच उन्हें वायरल बुखार हो गया, जिसके बाद उनकी सर्जरी नहीं हो पाई थी। तब कोर्ट ने अस्पताल के डॉक्टरों की रिपोर्ट पर उन्हें सर्जरी की अनुमति दी थी।


Share it
Top