लोकतंत्र में मुख्यमंत्री का धरने पर बैठना शर्मनाक कुछ और नहीं: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लोकतंत्र में मुख्यमंत्री का धरने पर बैठना शर्मनाक कुछ और नहीं: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

पुरुलियाउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि लाेकतंत्र में एक मुख्यमंत्री का धरने पर बैठने से अधिक शर्मनाक और कुछ नहीं हो सकता। श्री योगी ने यहां एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के शासन में राज्य की गरीब जनता त्रस्त है। उन्होंने आरोप लगया कि सुश्री बनर्जी लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास नहीं करती और वह शारदा चिटफंड घोटाले में कथित रूप से संलिप्त अधिकारी को संरक्षण देने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राज्य की सत्ता में आती है, तो तृणमूल के गुंडे अपने गले में 'मुझे बख्श दो' की तख्तियां लटकायें घूमेंगे, जैसा कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी के गुंडों ने किया है। उन्होंने दावा किया कि भाजपा भ्रष्टाचार मुक्त बंगाल देगी। उन्होंने कहा, " हम भारत को एक बड़े देश के रूप में स्थापित कर सकते हैं। मोदी सरकार के नेतृत्व में भारत शक्ति संपन्न बना है, लेकिन किसानों के लिए आवंटित राशि कुछ नेताओं द्वारा हड़प लिए जाने के कारण उन तक नहीं पहुंच पा रही है। यही नेता घोटालेबाजों को संरक्षण दे रहे हैं और उन्हें बचा रहे हैं। " उन्होंने पश्चिम बंगाल सरकार पर अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक गतिविधियों में संलिप्त होने का आरोप लगाया और कहा कि आखिर क्यों मुझ जैसे 'संन्यासी' और 'योगी' को यहां की धरा पर कदम रखने की अनुमति नहीं दी जा रही।" गौरतलब है कि इससे पहले श्री योगी के हेलीकाॅप्टर को पश्चिम बंगाल में उतरने की अनुमति नहीं दी गयी थी।

Share it
Top