उत्तर प्रदेश में था भ्रष्टाचार का बोलबाला...योगी ने लगाया राज्य की पूर्व की सरकारों पर भ्रष्टाचार का आरोप

उत्तर प्रदेश में था भ्रष्टाचार का बोलबाला...योगी ने लगाया राज्य की पूर्व की सरकारों पर भ्रष्टाचार का आरोप

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य की पूर्व की सरकारों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी कोई भी परियोजना संशोधित इस्टीमेट के बगैर नहीं पूरी हो पाई, क्योंकि इसी की आड़ में काली कमायी का धंधा चरम पर था। मुख्यमंत्री रविवार को गोरखपुर जिला चिकित्सालय में 1०० शैय्या युक्त क्षय रोग के लोकार्पण के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)की सरकार ने बिना किसी संशोधित इस्टीमेट के स्वास्थ्य सम्बन्धी सभी परियोजनाओं को समय सीमा के भीतर और गुणवत्ता के साथ पूरा किया है, जबकि प्रदेश की पूर्व सरकार में कोई भी परियोजना संशोधित इस्टीमेट के वगैर पूरा नहीं कर पायी थी। श्री योगी ने यहां 1०० शैया मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य ईकाई, 1०० बिस्तर वाले छय रोग एवं सह सामान्य सवास्थ्य इकाई तथा तीन मीनी पीडियाट्रिक इन्टन्सिव केयर यूूनिट .मिनी पी.आई.सी.यू. का लोकार्पण करते हुए कहा कि एक्यूट इन्सिफेलाइटिस सिन्ड्ररोम (एईएस) और जापानीज इंन्सेफलाइटिस (जेेई) से हो रही मौतों पर प्रभारी अंकुश लगाकर इस बीमारी में लगभग 59 प्रतिशत की कमी की हैं। उन्होंने इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के लोगों को बधायी भी दी। उन्होंने कहा वर्ष 2०17 में मस्तिष्क ज्वर से 655 मौतें हुई थी, जबकि एक जनवरी से दिसम्बर 2०18 तक मात्र 25० बच्चों की मृत्यु हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के छह विभागों को समायोजित करते हुए इस रोग पर कारगर रोक लगाने के लिए अन्य विभागों का समायोजन स्वास्थ्य विभाग के साथ करके बृहद जन जागरण अभियान की शुरुआत की जायेगी, जिससे आने वाले समय में किसी भी बच्चे की आसामयिक मृत्यु न होने पाये। मुख्यमंत्री ने भाजपा सरकार की योजनाओं की चर्चा करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने सिर्फ स्वास्थ्य सेेवाओं में ही नहीं, बल्कि बिजली, सड़क एवं शौचालयों का निर्माण करने का बड़ा काम किया हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2०18 में 11 लाख ग्रामीण आवास और 8 लाख 6० हजार शहरी आवास प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाभार्थियों को प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश के बाबा राघवदास मैडिकल कॉलेज गोरखपुर में आठ नई सुपरस्पेशलटी के विभाग फरवरी माह से आरम्भ हो जायेंगे, जिससे विभिन्न रोगों के इलाज की व्यवस्था होगी। श्री योगी ने कहा कि गोरखपुर में एम्स का निर्माण कार्य तेजी पर है और आगामी मार्च माह में ओपीडी की शुरूआत हो जायेगी। इसके लिए दिल्ली, बंगलौर आदि बडे शहरों से विशेषज्ञों को लाकर तैनात किया जायेगा। इस अवसर पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि प्रदेश में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य इकाई के 35 शैय्यायुक्त अस्पतालों का निर्माण किया जाना है जिसमें 2० बनकर तैयार है, उनका फरवरी माह तक कार्य पूरा हो जायेगा और उनमें मरीजों का इलाज शुरू हो जायेगा। उन्होंने इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों और कर्मचारियों को बधायी देते हुए कहा कि कि इसी कडी में आज सबसे पहले गोरखपुर में 1०० शैय्या वाला मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य इकाई का पहला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरु किया गया। इस मौके पर राज्य की मातृ एवं शिशु कल्याण और पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि सरकार आम जनता के स्वास्थ्य से जुड़ी विभिन्न योजनाओं को मुस्तैदी के साथ पूरा कर रही है, जिससे बडी संख्या में रोगियों को लाभ मिल रहा है।

Share it
Top