पंजाबः बहबल गोलीकांड में पूर्व एसएसपी चरणजीत शर्मा गिरफ्तार, बादल को घेरने की तैयारी

पंजाबः बहबल गोलीकांड में पूर्व एसएसपी चरणजीत शर्मा गिरफ्तार, बादल को घेरने की तैयारी



चंडीगढ़ । राज्य की पूर्ववर्ती बादल सरकार की बलि लेने वाले बेअदबी और बहबल कलां गोलीकांड की महत्वपूर्ण कड़ी तत्कालीन एसएसपी चरणजीत सिंह शर्मा को पंजाब सरकार द्वारा गठित विशेष जांच दल (सिट) ने रविवार तड़के होशियारपुर से गिरफ्तार कर लिया है। सिट को इस बात की भनक लगी थी कि शर्मा देश छोड़कर भागने की फिराक में थे।

उल्लेखनीय है कि दो दिनों पूर्व ही पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने इस गोलीकांड के अभियुक्त एसएसपी चरणजीत शर्मा सहित पांच अन्य की गिरफ्तारी पर लगे स्थगनादेश को हटा दिया था। सिट ने शर्मा को 29 जनवरी को पेश होने के लिए समन भेजा था। सिट के वरिष्ठ सदस्य (आईपीएस, आईजी) कुंवर विजय प्रताप ने शर्मा की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि गिरफ्तारी में देरी होने पर शर्मा के विदेश भागने की पूरी आशंका थी।

क्या है पूरा मामला

पूर्व की बादल सरकार के दौरान पंजाब के जिला फरीदकोट के बहबल कलां गाँव में सिख धर्मग्रन्थ की हुई बेअदबी के खिलाफ आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों पर तत्कालीन एसएसपी चरणजीत सिंह शर्मा द्वारा फायरिंग करवाई गयी थी, जिसमें दो सिख युवकों की मौत हो गई थी। इस मामले में बाजाखाना पुलिस द्वारा मुकदमा दर्ज़ हुआ। सार्वजनिक रूप से आरोप लगे थे कि तत्कालीन गृहमंत्री सुखबीर सिंह बादल के आदेश पर डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख से राजनीतिक फायदा लेने के लिए सरकार ने फायरिंग के निर्देश दिए थे। पंजाब में कांग्रेस की सरकार आने पर सरकार द्वारा गठित जस्टिस रणजीत सिंह कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर मोगा जिले के तत्कालीन एसएसपी चरणजीत सिंह शर्मा, एसपी (डी ) फाजिल्का बिक्रमजीत सिंह, इंस्पेक्टर प्रदीप सिंह व सब-इंस्पेक्टर अमरजीत सिंह को भी भारतीय दंड सहिता की धारा 302 ,307 व 34 के तहत पहले से ही 21 अक्टूबर, 2015 को दर्ज़ मुकदमें में शामिल कर लिया गया। उच्च न्यायालय ने इन चार पुलिस अधिकारियों की गिरफ़्तारी पर रोक लगाई हुई थी लेकिन दो दिनों पूर्व ही उच्च न्यायालय द्वारा इस रोक को हटाने के बाद सिट ने पूर्व एसएसपी चरणजीत सिंह शर्मा को पूछताछ के लिए 29 जनवरी को पेश होने के लिए समन भेजा था।

पूर्व एसएसपी के विदेश भागने की थी आशंका

पुलिस को ऐसी जानकारी थी कि चरणजीत शर्मा देश छोड़ के विदेश को भाग सकते हैं। इन्हीं आशंकाओं के चहते रविवार तड़के पुलिस ने शर्मा की होशियारपुर स्थित कोठी में दबिश दी और उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इस गिरफ्तारी को बहबल गोलीकांड की अहम कड़ी माना जा रहा है। सिट के वरिष्ठ सदस्य कँवर विजय प्रताप सिंह का कहना था कि शर्मा के विदेश भागने की सटीक सूचना थी। अगर ऐसा होता तो जांच ठप हो जाती।

बादल को घेरने की तैयारी

इस गिरफ्तारी के बाद पुलिस तथ्यों को आधार बनाकर कानूनी सलाह के मुताबिक अन्य लोगों की गिरफ्तारी भी कर सकती है। सिट के वरिष्ठ सदस्य कंवर विजय प्रताप सिंह का कहना है कि इस बात की भी जांच की जाएगी कि तत्कालीन एसएसपी चरणजीत सिंह शर्मा को गोली चलने के निर्देश किसने दिए।

बताते हैं कि इस मामले में पंजाब पुलिस के पूर्व प्रमुख सुमेध सिंह सैनी, सरकार में गृह मंत्रालय भी संभाल रहे पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल और रोहतक जेल में बंद डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को भी पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है।


Share it
Top