बाराबंकी में दस करोड़ की लागत से आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय की स्थापना की जायेगी : मुख्यमंत्री योगी

बाराबंकी में दस करोड़ की लागत से आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय की स्थापना की जायेगी : मुख्यमंत्री योगी


कानपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि जटिल से जटिल रोगों के इलाज में कारगर पौराणिक चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद के प्रचार प्रसार के लिये हर संभव प्रयास किये जायेंगे। इसी क्रम में जल्द ही बाराबंकी में दस करोड़ की लागत से आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय की स्थापना की जायेगी।

मोतीझील स्थित लॉन नंबर तीन में आयोजित अखिल भारतीय आयुर्वेद महासम्मेलन का उद्घाटन करते हुए श्री योगी ने कहा कि आयुर्वेद पद्धति से जटिल से जटिल इलाज सम्भव है जो देश को निरोगी बनाने में मददगार साबित होगी। भारत दुनिया का इकलौता देश है जहां योग के जरिये सिद्धि प्राप्त की जा सकती है। आयुर्वेद चिकित्सा से जुड़े विशेषज्ञों को इस पद्धति से जुड़े रहना होगा और किसी भी प्रकार की भ्रांति (संकोच) को हावी नहीं होने देना चाहिए।

योगी ने एेलान किया कि उत्तर प्रदेश में आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय खोले जाएंगे। इसकी शुरुआत केन्द्र सरकार के आयुष मंत्रालय के साथ मिलकर कराई जाएगी। योजना के पहले ही चरण में 10 करोड़ की लागत से बाराबंकी में आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय तैयार कराया जाएगा जहां पर बीमारियों की उचित जांच के साथ ही पीड़ितों का इलाज उपलब्ध होगा।

उन्होने कहा कि अगर आयुर्वेद को मामूली आंकने की भूल का परिणाम है कि एलोपैथ चिकित्सा इस प्राचीन पद्धति पर हावी है। आयुर्वेद से जुड़े चिकित्सक अपनी महत्ता को समझे और मौजूदा समय की मांग को देखते हुए इसकी ब्रांडिंग करें ताकि प्रचार के जरिये अपनी चिकित्सा पद्धति को एलोपैथ विद्या पर हावी कर आगे ले जाने में कामयाब हो।


Share it
Top