पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को उम्रकैद की सजा

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को उम्रकैद की सजा

नई दिल्ली। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। पंचकुला की सीबीआई अदालत ने गुरमीत राम रहीम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सजा सुनाई। गुरमीत राम रहीम सहित सभी चारों आरोपियों को पत्रकार मर्डर केस में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। बता दें कि उम्रकैद की सजा के साथ-साथ सभी दोषियों पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। सजा पर बहस के दौरान सीबीआई ने राम रहीम के लिए मौत की सजा की मांग की थी, लेकिन उसके वकील ने उसकी धार्मिक कामों का कोर्ट में हवाला दिया। बता दें कि मारे गए पत्रकार के परिवार ने दोषियों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की थी।

बता दें कि इससे पहले सीबीआई के वकील एचपीएस वर्मा ने बताया कि सीबीआई अदालत ने बुधवार को हरियाणा सरकार की एक अर्जी स्वीकार कर ली थी। इसमें पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में सजा सुनाए जाने के दौरान वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए गुरमीत राम रहीम को पेश करने की अनुमति मांगी गई थी। बता दें कि विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने हत्या मामले में 11 जनवरी को गुरमीत राम रहीम और तीन अन्य - कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह ओर कृष्ण लाल को दोषी ठहराया था। चारों को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत दोषी ठहराया जा चुका है।


डेरा मुखी को सजा के चलते अलर्ट पर रहा जिला प्रशासन

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस में वीरवार को सुनाई जाने वाली सजा के चलते जिला प्रशासन शांति व कानून व्यवस्था बनाए रखने को लेकर पूरी तरह अलर्ट पर रहा। डेरा सच्चा सौदा के नामचर्चा घरों के बाहर भी पुलिस बल तैनात रहा वहीं बीएसएफ की एक टुकड़ी को जिले में तैनात किया गया था। जिलेभर में पुलिस द्वारा 16 जगह नाके लगाकर वाहनों की जांच की जा रही थी। जिले की पंजाब के साथ लगती सीमा पर पुलिस द्वारा नाकाबंदी करके वाहनों की सघन जांच की गई। सुरक्षा की दृष्टि से पंजाब पुलिस के साथ-साथ रतिया पुलिस ने भी जगह-जगह नाकाबंदी करके वाहनों की जांच की ताकि क्षेत्र में अमन शांति बनी रहे और कोई अप्रिय घटना न हो।

पंजाब पुलिस द्वारा लगाए नाके के दौरान बोहा थाना के थानाध्यक्ष गुरदीप सिंह, एएसआई लक्खा सिंह, हवलदार मुखत्यार सिंह, प्रगट सिंह, बलीत सिंह व अजैब सिंह सहित अन्य पुलिस कर्मी उपस्थित थे। रतिया पुलिस ने सुरक्षा की दुष्टि से रतिया के फतेहाबाद रोड स्थित नामचर्चा घर के बाहर भी पुलिसबल तैनात किया गया था। रतिया थानाअध्यक्ष कुलदीप सिंह भी पूरे क्षेत्र में लगातार सुरक्षा व्यवस्था का गम्भीरता से जायजा लेते रहे। हालांकि देर शाम तक क्षेत्र में पूरी तरह से शांति व्यवस्था कायम रही। सुरक्षा की दृष्टि से जिला उपायुक्त द्वारा धारा 144 लागू की गई है, वहीं जिले में 8 ड्यूटी मैजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए हैं। इन ड्यूटी मैजिस्ट्रेटों के अधीन सभी थाने होंगे। डीसी ने तहसीलदार विजय मैहता को फतेहाबाद, नायब तहसीलदार रामनिवास को सदर फतेहाबाद, बीडीपीओ जगबीर सिंह को भट्टूकलां, बीडीपीओ रविन्द्र दलाल को भूना, नायब तहसीलदार गोपीचंद को रतिया, बीडीपीओ रमेश कुमार को सदर रतिया, नायब तहसीलदार भजनदास को टोहाना, बीडीपीओ नरेन्द्र सिंह को सदर टोहाना तथा नायब तहसीलदार सतबीर सिंह को जाखल का ड्यूटी मैजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया है।


Share it
Top