दिल्ली में दूरंतो एक्सप्रेस में बदमाशों ने डाली डकैती,यात्रियों के कैश, मोबाइल लेकर भागे बदमाश,सुरक्षा अब राम भरोसे

दिल्ली में दूरंतो एक्सप्रेस में बदमाशों ने डाली डकैती,यात्रियों के कैश, मोबाइल लेकर भागे बदमाश,सुरक्षा अब राम भरोसे

नई दिल्ली। बाहरी उत्तरी जिले के समयपुर बादली रेलवे स्टेशन पर तड़के साढ़े तीन बजे 7-8 बदमाशों ने दूरंतो एक्सप्रेस के एसी कोच में डकैती की वारदात को अंजाम दिया। बदमाशों ने तीन यात्रियों के साथ लूटपाट की वारदात को अंजाम दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपित मौके से फरार हो गए। बदमाशों के जाने के बाद पीड़ितों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही रेलवे पुलिस व आरपीएफ मौके पर पहुंची और पीड़ितों के बयान पर केस दर्ज किया। फिलहाल सब्जी मंडी थाना पुलिस केस दर्ज कर बदमाशों की तलाश कर रही है।

जानकारी के अनुसार पीड़ित अश्वनी कुमार ने लिखित शिकायत में बताया कि 'मैं दुरंतो एक्सप्रेस में जम्मू से दिल्ली तक ट्रेन संख्या 12266 से यात्रा कर रहा था। इस ट्रेन का केवल स्रोत और गंतव्य स्टेशन पर ही ठहराव है। ट्रेन को सुबह 4:20 बजे दिल्ली पहुंचना था। तड़के करीब 3:30 बजे जब ट्रेन समयपुर बादली स्थित रेलवे लाइन के पास पहुंची तो ट्रैक सिग्नल स्पष्ट न होने के कारण रुक गई। इसी बीच सात से आठ अज्ञात बदमाशों ने ट्रेन के कोच संख्या बी-3 और बी-7 में प्रवेश किया। उनके पास तेजधारदार हथियार थे।'

पीड़ित के अनुसार बदमाशों ने चाकू का भय दिखाकर तीन लोगों को बंधक बना लिया और लूटपाट की वारदात को अंजाम दिया। बदमाशों ने यात्रियों की गर्दन के पास चाकू लगाकर उन्हें कहा कि जो भी महंगा सामान है वे निकाल दें। बदमाशों ने पैसेंजरों से पर्स, नकदी, कैरी बैग, सोने की चेन, मोबाइल और हजारों की नकदी लूटी। घटना के बारे में रेलवे डीसीपी दिनेश गुप्ता ने बताया कि पुलिस ने पीड़ितों के बयान पर केस दर्ज कर लिया है। बदमाशों ने तीन यात्रियों के साथ लूटपाट की है। बदमाश सोने की चेन, मोबाइल व हजारों की नकदी लूटकर फरार हुए हैं। फिलहाल पुलिस आरोपितों की तलाश कर रही है।

ट्रेन रूकने के बाद गश्त के लिये नहीं आये आरपीएफ के जवान

पुलिस सूत्रों के अनुसार अगर किसी कारण वश किसी सुनसान जगह पर ट्रेन रूकती है तो सभी कोच में आरपीएफ के जवान गश्त करते हैं,ताकि कोई घटना न हो सके। उक्त घटना में बदमाश ट्रेन के भीतर करीब 10 से 15 मिनट रहे। इस बीच कोई भी आरपीएफ का जवान नहीं आया।

ट्रेन में सुरक्षा अब राम भरोसे !

पीड़ित अश्वनी के अनुसार घटना के बाद वह ट्रेन अटेंडेंट और टीटी को खोजने निकले। करीब 20 मिनट बाद उन्हें अटेंडेंट मिला। पीड़ित के अनुसार अटेंडेंट अपनी जगह पर उपलब्ध नहीं था और वह ट्रेन में कहीं और सो रहा था। उसके बाद पीड़ित ने तुरंत 100 नंबर पर डायल किया और पुलिस को मामले की सूचना दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने पीड़ितों के बयान पर एफआईआर दर्ज की।


Share it
Top