बीटी कॉटन सीड पर मोनसेंटों का पेटेंट दावा वैध : सुप्रीम कोर्ट

बीटी कॉटन सीड पर मोनसेंटों का पेटेंट दावा वैध : सुप्रीम कोर्ट

नयी दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को व्यवस्था दी कि आनुवंशिक रूप से संवर्धित कपास के बीजों को लेकर मोनसेंटो का दावा वैध है। न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन और न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा की पीठ ने दिल्ली उच्च न्यायालय की युगल पीठ के उस फैसले को निरस्त कर दिया जिसने मोनसेंटो टेक्नोलॉजी के पेटेंट दावे को अनुचित करार दिया था। मोनसेंटो ने दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ मई 2018 में अपील दायर की थी। उच्च न्यायालय ने कहा था कि बीटी कॉटन पर मोनसेंटो का दावा पेंटेंट कानून के तहत लागू नहीं हो सकता। मोनसेंटो को दवा और फसलों के लिए रसायन बनाने वाली जर्मनी की कंपनी बेयर एजी खरीद चुकी है। शीर्ष अदालत के इस फैसले को विदेशी कृषि कंपनियों, मसलन मॉनसेंटो, बेयर, डूपॉ पायोनियर और सेनजेंटा के लिए राहत के तौर पर देखा जा रहा है। इन कंपनियों को भी भारत में जीएम फसलों पर पेटेंट के हाथ से जाने का डर सता रहा था। [रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध, ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप]

Share it
Top