जंतर मंतर, सूरजकुंड का रखरखाव निजी कंपनियों को

जंतर मंतर, सूरजकुंड का रखरखाव निजी कंपनियों को

नयी दिल्लीसरकार ने दिल्ली के प्रसिद्ध जंतर मंतर तथा हरियाणा के सूरजकुंड के रखरखाव का जिम्मा दो निजी कंपनियों को सौंप दिया है।

पर्यटन मंत्री के.जे. अल्फोंस की मौजूदगी में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज यहाँ इंडिया गेट पर पर्यटन पर्व के उद्घाटन के मौके पर दोनों स्मारकों के रखरखाव के लिए संबंधित कंपनियों के अधिकारियों को सहमति पत्र दिये।

जंतर-मंतर के रखरखाव की जिम्मेदारी एपीजे सुरेंद्र पार्क होटल्स प्राइवेट लिमिटेड को दी गयी है। कंपनी की ओर से उसके मुख्य वित्तीय अधिकारी अतुल खोसला ने सहमति पत्र प्राप्त किया।

दिल्ली की सीमा पर स्थित सूरजकुंड की जिम्मेदारी ब्लिस इन्स को दी गयी है। कंपनी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी अदिति बलबीर ने गृह मंत्री से सहमति पत्र ग्रहण किया।

सरकार ने पिछले साल ही 'स्मारक मित्र' योजना के तहत विभिन्न स्मारकों के रखरखाव की जिम्मेदारी निजी कंपनियों तथा संस्थानों को सौंपने का क्रम शुरू किया है। इसके तहत कंपनियाँ अपनी कॉर्पोरेट सोशल जिम्मेदारी के तहत स्मारक परिसरों के आसापास जन सुविधाओं का विकास करती हैं तथा उनके रखरखाव में मदद करती हैं। दिल्ली के लाल किले की जिम्मेदारी पहले ही डालमिया भारत समूह को सौंपी जा चुकी है।

इसके अलावा श्री सिंह ने नौ कंपनियों/संस्थानों को विभिन्न स्मारकों के रखरखाव के लिए अभिरुचि पत्र भी दिये। इनमें कई कंपनियों/संस्थानों को एक से ज्यादा स्मारकों के लिए भी अभिरुचि पत्र दिये गये हैं।

Share it
Share it
Share it
Top