सेना में डेढ लाख नौकरियां घटाना चिंता का विषय : कांग्रेस

सेना में डेढ लाख नौकरियां घटाना चिंता का विषय : कांग्रेस

नयी दिल्ली कांग्रेस ने सेना में 1.50 लाख नौकरियां कम करने संबंधी खबरों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए चिंता का विषय बताया और सवाल किया कि अपने प्रचार तथा विदेश यात्राओं पर करोड़ों रुपए खर्च करने वाली मोदी सरकार सेना की मजबूती के लिए पर्याप्त निधि उपलब्ध क्यों नहीं कराती है।

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने बुधवार को यहां पार्टी की नियमित प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि सरकार को मीडिया की इन खबरों की असलियत सबके सामने रखनी चाहिए और स्पष्ट करना चाहिए कि रक्षा मंत्रालय ने क्या सही में सेना में डेढ लाख नौकरियों को कम करने का प्रस्ताव किया है। खबरों में यह भी कहा गया है कि इस कटौती से बचने वाले पांच-सात हजार करोड़ रुपए का इस्तेमाल सरकार सेना के आधुनिकीकरण और उसके लिए नये और उन्नत हथियारों की खरीद पर करना चाहती है।

उन्होंने कहा यदि यह खबर सही है तो उसे बताना चाहिए कि दो करोड़ नौकरियां हर साल देने का वादा करने वाली भाजपा सरकार देश में नौकरियों के अवसर घटाने का काम क्यों कर रही है। उन्होंने कहा कि यह देश की सुरक्षा के लिए चिंता का विषय है।

प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगर अपनी सरकार के प्रचार प्रसार पर साढे चार साल में 500 करोड़ रुपए, भाजपा मुख्यालय चमकाने पर 1100 करोड़ रुपए तथा अपनी विदेश यात्राओं पर दो हजार करोड रुपए खर्च कर सकती है तो फिर यह सरकार सेना को पर्याप्त बजट क्यों नही दे सकती है।

उन्होंने कहा कि सेना के जवान और अर्द्धसैनिक बलों के जवान हर दिन देश के लिए कुर्बानी दे रहे हैं। वर्ष 2014 से जम्मू कश्मीर में 410 जवान अपना बलिदान दे चुके हैं और 243 जवान 2015 से नक्सली हमले में शहीद हुए हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार देश की सुरक्षा से समझौता कर रही है।

Share it
Top