मौत का तांडव: मंगोलपुरी इलाके में पांच लोगों को चाकुओं से गोदा, दो की मौत

मौत का तांडव: मंगोलपुरी इलाके में पांच लोगों को चाकुओं से गोदा, दो की मौत


नई दिल्ली। बाहरी दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में बीती देर रात मौत का तांडव खेला गया। नशे में धुत आधा दर्जन से ज्यादा नकाबपोश बदमाशों ने एक के बाद एक पांच राहगीरों को चाकू मार दिया। घटना में दो लोगों की मौत हो गई जबकि तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

दरअसल दो सप्ताह पूर्व दो लड़कों के बीच हुई चाकूबाजी में मंगलवार रात अभिषेक उर्फ चूहा (18) नामक लड़के की मौत हो गई थी।उसकी मौत का बदला लेने के लिए लड़कों ने सड़क पर तांडव मचाया। घटना में करणवीर (47) और दिनेश शर्मा (35) की मौत हो गई, जबकि विनय सिंह (35), इरशाद (20) और सुरेश (50) का संजय गांधी अस्पताल में उपचार जारी है। एक साथ पांच लोगों को चाकू मारने की सूचना मिलते ही बाहरी जिले के एडिशनल डीसीपी राजेन्द्र सागर व सुल्तानपुरी एसीपी आलाप पेटल मौके पर पहुंचे। घटना के बाद करीब 18 लड़कों को हिरासत में लेकर मुख्य आरोपितों की तलाश शुरू कर दी गई है। मंगोलपुरी थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है।

कहां से बढ़ा विवाद

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार शुरुआती जांच में पता चला है कि 20 अगस्त को मंगोलपुरी जे ब्लॉक में देर रात करीब 10.10 बजे दो युवकों ने एक दूसरे को चाकू मारा था। करीब एक सप्ताह तक उपचार चलने के बाद अभिषेक उर्फ चूहा की मौत हो गई थी। दोनों तरफ से बयान लेने के बाद पुलिस ने क्रॉस केस दर्ज किया था। 20 अगस्त को विजय कुमार (42) ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह पेशे से ऑटो चालक है। उनका बेटे अभिषेक (18) को इलाके के एक आपराधिक मामले में लिप्त प्रिंस उर्फ काके ने अपने साथ काम करने को कहा था लेकिन अभिषेक ने उसके साथ काम करने से मना कर दिया था।

विजय का आरोप है कि आरोपित ने अभिषेक को अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। 20 अगस्त की देर रात अभिषेक जे ब्लाक स्थित शिव मंदिर के पास खड़ा था। तभी उसका प्रिंस से झगड़ा हुआ। आवाज सुनकर अभिषेक के पिता विजय आये। इधर अभिषेक ने चाकू निकालकर प्रिंस की जांघ में मार दिया। घायल होने के बाद प्रिंस ने भी चाकू निकालकर अभिषेक के पेट में मार दिया। मामले की सूचना पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया।

पुलिस ने प्रिंस के बयान पर आईपीसी की धारा 324 के तहत केस दर्ज किया। अभिषेक के पिता विजय के बयान पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 307 के तहत केस दर्ज किया। इधर करीब सप्ताह भर इलाज चलने के दौरान अभिषेक ने दम तोड़ दिया। अभिषेक के मरने के बाद पुलिस ने हत्या का केस दर्ज किया।

इस तरह हुई घटना

पुलिस के अनुसार वारदात बुधवार देर रात करीब 11.00 बजे मंगोलपुरी आई-ब्लॉक में हुई। यहां आधा दर्जन से अधिक नकाबपोश लड़के आई-ब्लॉक में ही रहने वाले प्रिंस के भाई रेंचो को ढूंढने पहुंचे। वहां रेंचो तो नहीं मिला। लड़कों ने वहां दो राउंड गोली चलाई। उसके बाद हंगामा किया। उनका कहना था कि उनका भाई चूहा मर गया है अब वह किसी को भी नहीं छोड़ेंगे। हंगामा कर आरोपितों ने सड़क पर मौजूद लोगों को चाकू मारना शुरू कर दिया।

एक-एक कर आरोपितों ने क में थोड़े दूर के अंतराल पर मौजूद पांच लोगों को चाकू मार मारते हुए फरार हो गये। हमले के बाद वहां अफरा-तफरी मच गई। करणवीर के चार चाकू, सीने, पेट और पीठ में लगे थे, दिनेश शर्मा के पेट, जांघ और सीने में चाकू लगे थे। बाकी विनय, इरशाद और सुरेश के भी शरीर पर कई जगह चाकू लगे थे। अस्पताल पहुंचने पर करणवीर और दिनेश को मृत घोषित कर दिया गया। एडिशनल डीसीपी राजेंद्र सिंह सागर के अनुसार हत्या और हत्या के प्रयास का केस दर्ज कर एक नाबालिग को पकड़ा है। साथ ही कुछ लड़कों को हिरासत में लिया गया है। आधा दर्जन टीमों का गठन कर मुख्य आरोपितों को तलाश की जा रही है।


Share it
Top