बागपत: नगर पालिका का तुगलकी फरमान, खुले में शौच करने गए तो दी जाएगी मौत

बागपत: नगर पालिका का तुगलकी फरमान, खुले में शौच करने गए तो दी जाएगी मौत


बागपत। उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद में ओडीएफ और विकास कार्यों में लचर नगर पालिका की तानाशाही का एक मामला सामने आया है। नगर पालिका ने खुले में शौच जाने वालों के लिए मौत का फरमान जारी कर दिया है। पालिका का तुगलकी फरमान है कि 'अगर करोगे खुले में शौच जल्द दी जाएगी मौत'। यह होर्डिंग जिला मुख्यालय पर लगा है। होर्डिंग से जहां नगर वासियों में हडकंप मचा है, वही जिला प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद होर्डिंग को हटा दिया गया है। भाजपा नेताओं ने इसे सरकार को बदनाम करने की साजिश बताया है।

इस चेतावनी देने वाले होर्डिंग को देखकर खुल में शौच को जाने वाले घबरा गए हैं। लोग एक दूसरे को होर्डिंग पर लिखी चेतावनी पढ़वाकर नसीहत दे रहे हैं कि घर पर शौचालय बनवा लीजिए। वरना फांसी का फंदा चूमने को तैयार रहिए। यह होर्डिंग ऐसे स्थान पर लगा है जहां बागपत के ही नहीं अन्य जिलों के लोग भी इस रस्ते से गुजरते हैं।

बागपत चांदीनगर मार्ग पर लगा यह चेतावनी बोर्ड दूसरे जिले के लोगों को भी सोचने पर मजबूर कर रहा है। अनेक लोगों में नगर पालिका परिषद की हर हरकत से आक्रोश नजर आ रहा है। हैरत की बात यह है कि इस होर्डिंग को लगवाने से पहले पालिका के जिम्मेदारों ने देखा तक नहीं। वहीं, प्रभारी डीएम व सीडीओ पीसी जयसवाल से इस बारे में बात की गयी तो उन्होंने तत्काल नगर पालिका को हड़काते हुए होर्डिंग हटाने के निर्देश दे दिए। जिसके बाद नगर पालिका के लोग सड़कों पर दौड़ने लगे और होर्डिंग को हटवा दिया गया। इस होर्डिंग सोशल मीडिया पर से नगर पालिका की खूब किरकरी हो रही है। इस मामले में नरेंद्र मोदी विचार मंच के अध्यक्ष संजय प्रजापति का कहना है कि ऐसी हरकत गैर जिम्मेदाराना है, सरकार के स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम को बदनाम करने का प्रयास किया गया है। जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।


Share it
Top