प्रधानमंत्री मोदी करेंगे राजीव और नरसिम्हा राव की बराबरी

प्रधानमंत्री मोदी करेंगे राजीव और नरसिम्हा राव की बराबरी


नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वतंत्रता दिवस पर बुधवार को जब लाल किले के प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहरायेंगे तो वह पांच या उससे अधिक बार यह सम्मान हासिल करने वाले देश के सातवें और दूसरे गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री होंगे।

मई 2014 में देश की बागडोर संभालने वाले श्री मोदी ने उस वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर पहली बार लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया था और बुधवार को वह पांचवीं तथा अपने मौजूदा कार्यकाल में अंतिम बार लालकिले पर तिरंगा फहरायेंगे। ऐसा करने वाले वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दूसरे नेता होंगे। पूर्व प्रधानमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेयी छह बार लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा चुके हैं। अगले वर्ष होने वाले आम चुनाव में यदि श्री मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने में सफल रहते हैं तो वह इस मामले में श्री वाजपेयी से आगे निकल सकते हैं।

पूर्व प्रधानमंत्रियों राजीव गांधी और पी वी नरसिम्हा राव ने भी पांच-पांच बार लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया और बुधवार को श्री मोदी उनके बराबर आ जायेंगे।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की बात की जाये तो अब तक पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु का रिकार्ड नहीं टूट पाया है। पंडित नेहरु ने 1947 से लेकर 1963 तक लगातार 17 बार लाल किले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राष्ट्र काे संबोधित किया। उनकी पुत्री और देश की एकमात्र महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी इस रिकार्ड के निकट तक पहुंची लेकिन वह इसकी बराबरी नहीं कर पायी। इंदिरा गांधी को 16 बार तिरंगा फहराने का अवसर मिला। उन्होंने 1966 से लेकर 1976 तक लगातार 11 बार तथा 1980 से लेकर 1984 तक पांच बार लालकिले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया। नेहरु गांधी परिवार के एक अन्य सदस्य राजीव गांधी को पांच बार यह सम्मान मिला।

नेहरु, इंदिरा के बाद सबसे अधिक 10 बार राष्ट्रीय ध्वज फहराने का मौका डा. मनमोहन सिंह को मिला।

उन्होंने 2004 से लेकर 2013 तक लाल किले के प्राचीर पर तिरंगा फहराया। कांग्रेस से चुनकर आये प्रधानमंत्रियों ने 55 बार लालकिले पर तिरंगा फहराया और राष्ट्र को संबोधित किया। इसमें से 38 बार यह गौरव नेहरु-गांधी परिवार के सदस्यों को मिला। नेहरु, इंदिरा और राजीव गांधी के अलावा डा़ मनमोहन सिंह ने 10 बार, पी वी नरसिंह राव ने पांच बार तथा पंडित नेहरु की मृत्यु के बाद देश की बागडोर संभालने वाले लाल बहादुर शास्त्री ने दो बार लालकिले के प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्रियों में श्री वाजपेयी सबसे आगे हैं। उसके बाद श्री मोदी हैं। आपातकाल के बाद 1977 में केंद्र में बनी पहली गैर कांग्रेसी सरकार का नेतृत्व करने वाले श्री मोरारजी देसाई को दो बार लालकिले के प्राचीर पर झंडा फहराने का मौका मिला। चार प्रधानमंत्रियों चौधरी चरण सिंह, विश्वनाथ प्रताप सिंह, एच डी देवेगौड़ा और इंद्र कुमार गुजराल को एक-एक बार यह सम्मान मिला।

श्री चंद्रशेखर एकमात्र ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्हें लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने और राष्ट्र को संबोधित करने का अवसर नहीं मिला। पंडित नेहरु और श्री लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु होने के समय दो बार कुछ कुछ समय के लिये प्रधानमंत्री का पद संभालने वाले श्री गुलजारी लाल नंदा को भी यह राष्ट्रीय अवसर नहीं मिला।

Share it
Share it
Share it
Top