महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर फिर बना सस्पेंस ... सोनिया से मिलने के बाद शरद पवार बोले- नहीं हुई सरकार गठन पर कोई बात, शिवसेना को भरोसा देने पर चुप्पी साधी

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर फिर बना सस्पेंस ... सोनिया से मिलने के बाद शरद पवार बोले- नहीं हुई सरकार गठन पर कोई बात, शिवसेना को भरोसा देने पर चुप्पी साधी

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर पिछले कई दिनों से काफी जद्दोजहद चल रही है, लेकिन फिर भी सरकार गठन की स्थिति अभी तक पूरी तरह स्पष्ट नहीं हो सकी है। सरकार गठन को लेकर शिवसेना भले ही एनसीपी और कांग्रेस के भरोसे आगे बढऩे की बात कर रही है, लेकिन शरद पवार ने इस संबंध में कुछ भी स्पष्ट रूप से कहने से इनकार किया है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद शरद पवार ने कहा कि हमारी राज्य में सरकार बनाने को लेकर कोई चर्चा ही नहीं हुई। यही नहीं शरद पवार ने शिवसेना के साथ किसी समझौते की बात से भी इनकार किया। इसके अलावा उन्होंने शिवसेना को सरकार बनाने को लेकर कोई भरोसा देने पर भी कुछ कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मैंने सोनिया गांधी को राज्य के हालातों से अवगत कराया, लेकिन सरकार गठन पर बात नहीं हुई। उनका यह बयान शिवसेना के लिए झटका हो सकता है, जो लगातार कह रही है कि जल्दी ही उसके नेतृत्व में सरकार बना सकती है। इसके अलावा शरद पवार ने यह कहकर सरकार गठन को लेकर सस्पेंस को और बढ़ा दिया कि हम इस मसले पर अन्य सहयोगी दलों से भी बात करेंगे। पवार ने कहा कि यह खबरें थीं कि कांग्रेस और एनसीपी ही मिलकर बात करते हैं। ऐसे में हमने स्वाभिमान पक्ष के राजू शेट्टी, समाजवादी पार्टी और अन्य दलों को भी भरोसे में लेंगे। उन्होंने कहा, सोनिया गांधी को प्रदेश की ब्रीफिंग देने का काम किया। इसके अलावा किसी मुद्दे पर हमने बात नहीं की। हालांकि हम इस परिस्थिति पर ध्यान रखेंगे और दोनों पार्टियों के कुछ सीनियर लोगों की राय लेने का प्रयास करेंगे। इसके बाद आगे की राय बनाएंगे। पीएम मोदी की ओर से संसद में एनसीपी की तारीफ किए जाने को लेकर भी पवार ने किसी समीकरण की बात से इनकार किया। उन्होंने कहा कि वहां पीएम मोदी ने सिर्फ राज्यसभा के इतिहास की बात की और उसके कामकाज को लेकर ही चर्चा थी।

महाराष्ट्र संकट के बीच पीएम मोदी ने संसद में की एनसीपी की तारीफ

नई दिल्ली। पिछले कई दिनों से लगातर चल रही जद्दोजहद के बावजूद भी महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर अब तक तस्वीर साफ नहीं हुई है। भाजपा से छिटकी शिवसेना का कांग्रेस और एनसीपी के साथ अब तक तालमेल नहीं बैठ पाया है। वहीं दूसरी ओर एनडीए के कुछे नेताओं को शिवसेना के वापस लौट आने की उम्मीद है। इस बीच संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की तारीफ कर कयासों को बढ़ा दिया। संसद में पीएम मोदी ने बीजू जनता दल के साथ ही एनसीपी की तारीफ करते हुए कहा कि जनता का दिल जीतना इन दोनों पार्टियों से सीखना चाहिए।

Share it
Top