अयोध्या: हिन्दू-मुस्लिम पक्ष के वकीलों की नोकझोंक की गवाह बनी सुनवाई

अयोध्या: हिन्दू-मुस्लिम पक्ष के वकीलों की नोकझोंक की गवाह बनी सुनवाई

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय में लगभग अंतिम पड़ाव पर पहुंच चुकी अयोध्या विवाद की सुनवाई आज हिन्दू और मुस्लिम पक्षकारों के वकीलों के बीच तीखी नोकझोंक का गवाह बनी और मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को हस्तक्षेप करना पड़ा। न्यायालय में 39वें दिन की सुनवाई के दौरान हिन्दू पक्ष की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता के. परासरण ने बहस की शुरुआत की। उन्होंने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस.ए. बोबडे, न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण तथा न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजर की संविधान पीठ के समक्ष कहा कि अयोध्या में 5० से 6० मस्जिद हैं तथा मुस्लिम कहीं और भी जाकर नमाज पढ़ सकते हैं, लेकिन यह राम का जन्मस्थान है, इसे बदला नहीं जा सकता। श्री परासरण ने अपनी दलील में कहा कि किसी को भी भारत के इतिहास को तबाह करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। न्यायालय को इतिहास की गलती को ठीक करना चाहिए। एक विदेशी भारत में आकर अपने कानून लागू नहीं कर सकता है। उन्होंने अपनी दलील की शुरुआत भारत के इतिहास के साथ की। न्यायालय के निर्देश के बाद वकील वी.पी. शर्मा ने लिखित दलील के साथ कुरान के अंग्रेज अनुवाद की कॉपी रजिस्ट्री को सौंपी। इसके साथ ही हिंदू और सिख धर्म ग्रंथ भी रजिस्ट्री को सौंपे जाएंगे। हिंदू पक्षकार की ओर से श्री परासरण ने मंदिर के सबूत के तौर पर कुछ दस्तावेज संविधान पीठ को देने की गुजारिश की है। अदालत की ओर से दस्तावेज रजिस्ट्री को देने को कहा गया है। हिंदू पक्षकार महंत रामचंद्र दास के शिष्य सुरेश दास की ओर से वकील श्री परासरण अपनी दलीलें दे रहे थे। हिंदू पक्ष की ओर से निर्मोही अखाड़ा बुधवार को अपनी दलील रखेगा। निर्मोही अखाड़े के वकील सुशील जैन की मां की मृत्यु हो जाने के कारण वह अदालत नहीं पहुंच सके। श्री परासरण ने भावनात्मक दलीलें रखते हुए कहा कि बाबर जैसे विदेशी आक्रांता को हिंदुस्तान के गौरवशाली इतिहास को खत्म करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। अयोध्या में राम मंदिर को विध्वंस कर मस्जिद का निर्माण एक ऐतिहासिक गलती थी, जिसे न्यायालय को अब ठीक करना चाहिए। श्री परासरण ने कहा कि एक विदेशी आक्रमणकारी को यह हक नहीं दिया जा सकता कि वह इस देश में आकर खुद को बादशाह घोषित करे और कहे कि उसकी आज्ञा ही कानून है। अतीत में तो अनेक शक्तिशाली हिंदू राजा भी रहे हैं, पर किसी के विदेश में यूं आक्रमण करने का तो कोई उदाहरण नहीं मिलता। उन्होंने दलील देते हुए कहा कि हिंदू श्रीराम के जन्मस्थान पर अपनी आस्था को लेकर सैकड़ों साल से संघर्ष कर रहे है। अकेले अयोध्या में ही 50-60 मस्जिद हैं, मुसलमान किसी और मस्जिद में भी इबादत कर सकते हैं, पर हिन्दुओं के लिए तो यह जगह उनके आराध्य श्रीराम का जन्मस्थान है, यह जगह नहीं बदली जा सकती। इस पर मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने टोकाटोकी की कि क्या श्री परासरण यह भी बताएंगे कि अयोध्या में कितने मंदिर है। सुनवाई के दौरान हिंदू पक्ष के वकील श्री परासरण एवं सीएस वैद्यनाथन और मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन के बीच तीखी नोकझोंक देखने को मिली। श्री धवन की टोकाटोकी से परेशान श्री वैद्यनाथन ने उन्हें अपनी 'रनिंग कमेंट्री' बंद करने को कहा तो श्री धवन ने सख्त शब्दों में इस पर एतराज जाहिर किया। इसके बाद मुख्य न्यायाधीश ने द$खल दिया। कल रामलला विराजमान की ओर से पेश हो रहे वकील श्री वैद्यनाथन को 45 मिनट तक जिरह करने का मौका दिया जायेगा। उसके बाद करीब एक घंटे मुस्लिम पक्ष के श्री धवन को जवाब देने के लिए मिलेगा। इसके बाद न्यायालय 'मॉल्ंडग ऑफ रिलीफ' को लेकर विचार करेगा। अगर कल ही इस पर बहस पूरी हो जाती है तो कल ही फैसला सुरक्षित रख लिया जायेगा।

Share it
Top