प्रधानमंत्री ने दी शहादत का बदला लेने की खुली चुनौती...हैवानियत की पाई-पाई का किया जायेगा हिसाब

प्रधानमंत्री ने दी शहादत का बदला लेने की खुली चुनौती...हैवानियत की पाई-पाई का किया जायेगा हिसाब

झांसी। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में फिदायीन हमले में शहीद जवानों की शहादत का बदला लेने की खुली चुनौती देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि कायर आतंकियों और उनके आकाओं के खिलाफ कार्रवाई का समय, स्थान और स्वरूप तय करने की खुली छूट सुरक्षा बलों को दे दी गयी है।

श्री मोदी ने कहा कि पुलवामा की घटना से देश के लोग दुखी और उत्तेजित हैं। आप सभी की भावनाओं से मैं भली-भांति वाकिफ हूं। आतंकवादियों के कायराना हमले में हमारे जवान वीरगति को प्राप्त हुए। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि देश की रक्षा के लिये जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा। एक-एक जवान की शहादत का बदला लिया जायेगा। सुरक्षा बलों को आगे की कार्रवाई का समय, स्थान और स्वरूप तय करने की इजाजत दे दी गई है। पुलवामा हमले के

गुनहगारों को उनके किए की सजा जरूर मिलेगी। उन्होंने कहा कि दुनिया के सभी ताकतवर देशों ने पुलवामा की घटना की तीव्र भत्र्सना की है। सभी देश आतंकवाद के मसले पर हमारे साथ खड़े है। उन देशों से प्राप्त संदेश बताते हैं कि वे न सिर्फ दुखी हैं, बल्कि गुस्से में भी हैं। सभी देशों ने आतंकवाद के खात्मे के लिये अपना समर्थन दिया है।

पाकिस्तान को आईना दिखाते हुए श्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद का पोषक हमारा पड़ोसी देश दुनिया में कटोरा लेकर घूम रहा है। उसके लिए रोजमर्रा का खर्चा चलाना मुश्किल हो गया है। वह भारत को तरक्की की राह पर नहीं देखना चाहता। इसीलिये पुलवामा जैसी तबाही को अंजाम देकर हमें भी बदहाल करना चाहता है, लेकिन वह भूल गया है कि ये नई रीति और नई नीति वाला भारत है। उसके इस मंसूबे का देश के 13० करोड़ लोग मिलकर मुंहतोड़ जवाब देंगे।

श्री मोदी ने मेक इन इंडिया के अन्तर्गत डिफेंस इंडस्ट्रियल कारीडोर और पेयजल योजनाओं के शिलान्यास के मौके पर कहा कि सेना के शौर्य और सामथ्र्य पर किसी को शक नहीं है। पुलवामा की साजिशकर्ताओं को सजा जरूर मिलेगी। आतंकी संगठन बड़ी गलती कर चुके हैं। अब उन्हें इसकी सजा भुगतने के लिये तैयार हो जाना चाहिये। हैवानियत की पाई-पाई का हिसाब किया जायेगा।

वीरंगना लक्ष्मीबाई की धरती झांसी से पड़ोसी पाकिस्तान का नाम लिये बगैर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पड़ोसी मुल्क अपनी करतूतों की वजह से आर्थिक बदहाली से जूझ रहा है। वह दुनिया में अलग-थलग पड़ गया है। उसे भारत की तरक्की हजम नहीं हो रही है। श्री मोदी ने कहा कि पुलवामा जैसी तबाही मचाकर वह सोचता है कि भारत भी बदहाल हो जाएगा तो वहां बैठे लोग यह समझ लें कि आपने जो रास्ता अपनाया है, उसमें अपनी बर्बादी देखी है। हमने जो रास्ता अपनाया है उससे हमारी उन्नति दुनिया देख रही है। पूरी विश्व बिरादरी आतंकवाद को खत्म करने के पक्ष में है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मणिकर्णिका की जन्मभूमि वाराणसी मेरी कर्मभूमि है। देश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश तरक्की की राह पर अग्रसर है। सभी जानते है कि बुंदेलखंड में उनकी खासी दिलचस्पी है। यहां के किसानों को सिंचाई, बच्चों को पढाई और जन-जन की सुनवाई सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल हैं। इसी क्रम में बुंदेलखंड में पीने के पानी की कमी को पूरा किया जायेगा, जिसका फायदा बड़ी आबादी को मिलेगा।

उन्होंने कहा कि पेयजल परियोजना के पूरा होने के बाद बुंदेलखंड के हर जिले में पीने के पानी की समस्या का निदान हो सकेगा। पानी की समस्या से मुक्ति दिलाने के लिये आज नौ हजार करोड़ की पाइप-लाइन का शिलान्यास किया गया है। डिफेंस कारीडोर के फायदे गिनाते हुए उन्होंने कहा कि कारीडोर बनने से बड़े उद्योग लगने के साथ छोटे उद्योगों का भी विकास होगा। झांसी और आसपास के क्षेत्रों में जो छोटे उद्योग हैं, उनको इस कॉरिडोर से बहुत बड़ा लाभ होने वाला है। इस कॉरिडोर से यहां के लाखों युवाओं को सीधा रोजगार मिलेगा। अलीगढ़ से लखनऊ तक विस्तारित यह डिफेंस कॉरिडोर देश को सशक्त करने के साथ ही उत्तर प्रदेश के युवाओं को रोजगार के नए अवसर भी उपलब्ध कराने वाला है। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के अलावा चंदौली के सांसद एवं उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पांडेय भी मौजूद थे।

Share it
Top