अंतरिम बजट: एक समय ऐसा भी आया जब, सदन मोदी-मोदी के नारे से गूंजता रहा, सोते रहे राहुल गाँधी

अंतरिम बजट: एक समय ऐसा भी आया जब, सदन मोदी-मोदी के नारे से गूंजता रहा, सोते रहे राहुल गाँधी

नई दिल्ली। मोदी सरकार की ओर से लोकसभा में शुक्रवार को पेश अंतरिम बजट में एक समय ऐसा भी आया, जब सदन सत्ता पक्ष के सदस्यों के 'मोदी-मोदी' के नारे से गूंज उठा।

- मध्यम वर्ग के नौकरीपेशा लोगों को पांच लाख रुपये की आय तक शत-प्रतिशत आयकर छूट के वित्त मंत्री पीयूष गोयल के प्रस्ताव के साथ ही सत्ता पक्ष के सदस्य जोर-जोर से मेजें थपथपाते रहें। खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी अपने बायें हाथ से और गृह मंत्री राजनाथ सिंह दायें हाथ से काफी देर तक मेजें थपथपाते रहे। इसी बीच सदस्यों ने मोदी-मोदी के नारे लगाने शुरू कर दिये। पूरा सदन काफी देर तक 'मोदी-मोदी' के नारों से गूंजता रहा। इसके कारण कुछ समय तक श्री गोयल को बजट भाषण बंद करना पड़ा। वह अपनी सीट पर खड़े रहकर नारों के थमने का इंतजार करते रहे। इससे नाराज विपक्षी सदस्य भी अपनी सीट पर खड़े हो गये। अंतत: कांग्रेस, वाम दलों, तृणमूल कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के सदस्य सीट पर खड़े होकर हंगामा करने लगे और गुंजायमान सदन में एक बार फिर श्री गोयल ने अपनी बात रखनी शुरू की। चंद सेकेंड के लिए तो वित्त मंत्री की आवाज 'मोदी-मोदी' के नारों में दब गयी, लेकिन अगले ही पल सत्ता पक्ष के सदस्यों ने नारेबाजी बंद कर दी।

ह्व बजट पेश करने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुद श्री गोयल की सीट तक पहुंचे और उन्हें बधाई दी। प्रधानमंत्री ने अपने बायें हाथ से श्री मोदी की पीठ थपथपाई। वित्त मंत्री को बधाई देने वालों में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, अन्य केंद्रीय मंत्री तथा श्री लाल कृष्ण आडवाणी भी शामिल थे।

ह्व बजट पेश करने के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सोते पाये गये और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) के रामदास आठवले तथा सत्तापक्ष के कुछ अन्य सदस्यों ने इसके लिए टीका-टिप्पणी भी की। उस वक्त भी सदन में हंसी के फव्वारे फूट पड़े।

- आयकर रिटर्न जांच प्रक्रिया में आयकर अधिकारियों के हस्तक्षेप न होने की घोषणा पर सत्तापक्ष के सदस्यों ने मेजें थपथपायीं और कहा, 'वाह-वाह, भ्रष्टाचार बंद हो जायेगा।

- बजट प्रस्ताव के दौरान जब-जब वित्त मंत्री ने मोदी सरकार के कार्यों का उल्लेख किया तब-तब तृणमूल कांग्रेस के मो. इदरीश अली ने अलग-अलग तरीके से उसका मजाक उड़ाया। कभी उन्होंने अपने हाथ में रुमाल नचाते हुए मजाकिया प्रदर्शन किया, तो कभी अट्टाहास किया।

- तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी ने उस वक्त नाटकीय अंदाज में कई बार अट्टाहास लगाये, जब वित्त मंत्री ने नोटबंदी के कथित फायदे का उल्लेख किया। वह बीच-बीच में कहते रहे- 'नीरव मोदी कहां गया, चोकसी कहां गया। उन्हें उन्हीं की पार्टी के सर्वश्री दिनेश त्रिवेदी और सौगत रॉय ने पीछे से टोका, उसके बाद वह थोड़ा शांत हुए।

- बिहार से संबंधित मुद्दों को लेकर असम्बद्ध सदस्य राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव बड़े से कागज का एक चोंगा पहनकर सदन में आये थे, जिस पर १३ सूत्री मांगें लिखी थी। बीच-बीच में कांग्रेस सदस्य नौकरियों में आयी कमी से संबंधित ग्राफ वाली तख्तियां लहराते रहे।

Share it
Top