मुज़फ्फरनगर: सभासदों ने छात्रों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा..चार सभासदों के विरूद्ध करायी रिपोर्ट, जान बचाकर न भागते तो स्थिति होती भयानक

मुजफ्फरनगर। बुधवार को काफी जद्दोजहद के उपरांत पालिका की चौथी बोर्ड बैठक आयोजित हुई। जो कि थोड़ेे हंगामे के बाद करोड़ों के विकास कार्यों की भगीरथी को लेकर समाप्त हो गयी। बोर्ड बैठक के बाद जो कुछ हुआ, उसकी तो किसी ने कल्पना तक नहीं की थी। कुछ सभासदों ने अपनी बात रखने आये एबीवीपी के कार्यकर्ताओं को पालिकाध्यक्ष के कक्ष में दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। यदि कार्यकर्ता जान बचाकर नहीं भागते तो स्थिति विकट होती। इस मारपीट में चार-पांच कार्यकर्ता आंशिक रूप से घायल हुए। जिसके बाद एबीवीपी की ओर से दी गयी तहरीर पर चार सभासदों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज हो गयी।

बुधवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता पालिका पहुंचे। जहां पर उनके द्वारा बोर्ड बैठक कर जा रही पालिकाध्यक्ष श्रीमती अंजू अग्रवाल का नारेबाजी करते हुए घेराव किया गया। जिसके बाद सभी पालिकाध्यक्ष के कक्ष में आ गये। जहां पर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने बैठक में उपस्थित पर्यवेक्षक अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमित कुमार की उपस्थिति में पालिकाध्यक्ष के सामने अपनी बात रखी।

जब कार्यकर्ता अपनी बात रख रहे थे, तो उनकी वहां उपस्थित सभासदों से कुछ कहासुनी हो गयी। एबीवीपी कार्यकर्ता अपर जिलाधिकारी के समझाने पर भी नहीं रूके तथा पालिकाध्यक्ष के सामने अपनी बात रखते रहे। कार्यकर्ताओं ने बात रखते हुए कहा कि हम वह सभासद नहीं हैं कि जो 18-18 हजार के लिफाफे पर बिक जाएं। बस फिर क्या था, वहां पर उपस्थित सभासद भड़क उठे और उन्होंने सभी एबीवीपी कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। जिसके कारण कक्ष में अफरा-तफरी मच गयी। गनीमत यह रही कि एबीवीपी के कार्यकर्ता वहां से जान बचाकर भागे, अन्यथा स्थिति और खऱाब हो सकती थी।

एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि पालिकाध्यक्ष ने अपने तथाकथित गुंडों से उनकी पिटाई करायी। वह सभी को चेहरे से पहचान लेंगे। उनका कहना था कि यदि उन्हें न्याय नहीं मिला, तो वह पालिका का घेराव करते हुए आंदोलन करेंगे। इसके बाद राहुल शर्मा की ओर से शहर कोतवाली में कुछ सभासदों के विरुद्ध तहरीर दी गयी, जिसमे पालिकाध्यक्ष के कक्ष में सभासद सरफराज, दिलशाद, आबिद अली व नदीम खान सहित पालिका के कुछ कर्मचारियों द्वारा उनके साथ बंधक बनाकर मारपीट करने तथा जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया गया । तहरीर पर चरों सभासदों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 147, 342, 323 व 506 में रिपोर्ट दर्ज कर ली गयी।

वहीं दूसरी ओर इस मामले पर पालिकाध्यक्ष श्रीमती अंजू अग्रवाल ने इसे एक बड़े भाजपा नेता की साजिश करार दिया। अपने आवास पर मीडियाकर्मियों से रूबरू होते हुए उन्होंने कहा कि वह उन्हें नारेबाजी करते हुए कूड़े के ढेर पर बैठाने की बात कर रहे थे।

वार्ड 12 के भाजपा सभासद नरेश चंद मित्तल के बेटे अनमोल मित्तल के नेतृत्व में आये छात्रों ने कक्ष में हंगामा किया। वह हमारे खेमे के नहीं हैं। वह किसी बड़े नेता की तय की गयी साजिश के तहत आये थे। वह वहां पर प्लानिंग से खड़े थे। मारपीट पर कहा कि सभासद उनके स्तंभ हैं। उन्होंने हमला नहीं किया। छात्रों ने हमला किया है।

Share it
Top