बालिका गृह कांड : एसपी-सीओ का तबादला, कोतवाल, चौकी इंचार्ज सस्‍पेंड

बालिका गृह कांड : एसपी-सीओ का तबादला, कोतवाल, चौकी इंचार्ज सस्‍पेंड



देवरिया। बुधवार को बालिका गृह कांड में शासन ने बड़ी कार्रवाई की। जांच में पुलिस की लापरवाही मिलने की पुष्टि हुई। डीजीपी ने एसपी रोहन पी कनय को मुख्यालय से संबद्ध कर दिया है। इसके अलावा सीओ सदर दयाराम सिंह गौर का भी स्थानांतरण कर दिया है। तत्कालीन कोतवाल प्रभातेश श्रीवास्तव और स्टेशन रोड चौकी इंचार्ज जटाशंकर सिंह यादव निलंबित कर दिए गए हैं। यही नहीं शासन ने उन सभी थानेदारों के खिलाफ कार्रवाई का भी निर्देश दिया है जिन्होंने मान्यता समाप्त होने के बावजूद गिरिजा त्रिपाठी की संस्था को बच्चियों और संवासिनियों को सौंपा था।

5 अगस्त की देर रात पुलिस ने छापेमारी कर गिरिजा त्रिपाठी की संस्था मां विध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान से जुड़ी बालिका गृह और महिला अल्पवास रजला से 23 बच्चियों और संवासिनियों को मुक्त कराते हुए देह व्यापार के रैकेट का खुलासा किया था। जांच में पाया गया कि पुलिस की लापरवाही से यह संस्था संचालित हो रही है। मामले में पुलिस की संलिप्तता की जांच करने के लिए शासन ने एडीजी जोन गोरखपुर दावा शेरपा को जिम्मेदारी सौंपी थी।

एडीजी जोन ने 11 अगस्त को देवरिया पहुंच कर जांच की। जिसमें न सिर्फ संस्था की मान्यता समाप्त होने के बावजूद बालिका गृह को पुलिस ने बच्चियों और संवासिनियों को सौंपा, बल्कि तत्कालीन डीएम सुजीत कुमार के द्वारा 17 सितंबर 2017 को एसपी समेत सभी थानाध्यक्षों को भेजे गए पत्र की भी अनदेखी की गई। एडीजी जोन ने 13 अगस्त को अपनी जांच रिपोर्ट पुलिस महानिदेशक को सौंपी थी, जहां से 14 अगस्त को मुख्यमंत्री के पास भेज दिया गया था। सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सभी दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति दे दी।

बुधवार को डीजीपी ने एसपी रोहन पी कनय को मुख्यालय से अटैच कर दिया। इनके खिलाफ जांच कर विभागीय कार्रवाई होगी। इसके अलावा सीओ सदर दयाराम सिंह गौर को स्थानांतरित कर दिया गया है। तत्कालीन कोतवाल प्रभातेष श्रीवास्तव, स्टेशन रोड चौकी इंचार्ज जटाशंकर सिंह यादव के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई हुई है। यही नहीं बिना मान्यता की संस्था को बच्चियां सौंपने के लिए दोषी संबंधित थानाध्यक्षों के खिलाफ भी विभागीय कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। ऐसे में दो दर्जन से अधिक थानेदार कार्रवाई की जद में आएंगे यह तय है।

बालिका गृह कांड के जांच की आंच जिले के निवर्तमान एसपी राकेश शंकर तक पहुंच गई है। शासन ने उन्हें भी इसके लिए जिम्मेदार मानते हुए मुख्यालय से अटैच कर दिया है। उनके विरुद्ध भी जांच कर विभागीय कार्रवाई होगी।

शासन ने एन कोलांची को देवरिया का एसपी बना दिया है। माना जा रहा है कि नए एसपी गुरुवार को ज्वाइन कर लेंगे। वे 2008 बैच के आईपीएस हैं। एक साथ हुई इतनी बड़ी विभागीय कार्रवाई को लेकर जिले के पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया है।


Share it
Share it
Share it
Top