प्रधानमंत्री के चेहरे पर चिपकाया ममता का चेहरा, लिखा - 'मोदी हटाओ देश बचाओ', विरोध करने पर तृणमूल कार्यकर्ताओं ने भाजपा के नेताओं -कार्यकर्ताओं को पीटा, केस दर्ज

प्रधानमंत्री के चेहरे पर चिपकाया ममता का चेहरा, लिखा -




कोलकाता। राजनीतिक हिंसा के लिए कुख्यात पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव प्रचार की शुरुआत शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो जनसभाओं के साथ होने वाली है। दुर्गापुर में उनकी जनसभा होनी है लेकिन शनिवार को होने वाली इस जनसभा से ऐन पहले शुक्रवार देर रात इलाके में उस वक्त संघर्ष की स्थिति बन गई जब जनसभा स्थल से केवल 70 मीटर की दूरी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पोस्टर पर तृणमूल कार्यकर्ताओं ने ममता बनर्जी का पोस्टर चिपका दिया। प्रधानमंत्री के ठीक चेहरे पर चिपकाए गए इस पोस्टर पर लिखा था कि हिंदू-मुस्लिम नहीं, बिहारी- बंगाली नहीं, दलित-सवर्ण नहीं, बल्कि सब का सबकी बात करने वाली ममता बनर्जी हैं|

इसलिए 'मोदी हटाओ देश बचाओ'। इस पर नजर पड़ने के बाद जब भाजपा कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध किया तब बड़ी संख्या में तृणमूल के लोगों ने उन पर हमला कर दिया। उसके बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी एकत्रित होकर इसका विरोध करना शुरू कर दिया था। दुर्गापुर इस्पात हाउस के पास लगाए गए इस पोस्टर को केंद्र कर विरोध करने पहुंचे प्रधानमंत्री की जनसभा के मुख्य आयोजक और भाजपा के राज्य कमेटी के सदस्य संजय सिन्हा, राज्य महिला मोर्चा की सदस्य और कलकत्ता उच्च न्यायालय की अधिवक्ता प्रियंका टिबरिवाल सहित चार लोगों पर हमले हुए हैं। आरोप है कि पोस्टर पर ममता बनर्जी का पोस्टर चिपकाने वाले तृणमूल के कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में एकत्रित होकर लाठी-डंडे से इन लोगों की गाड़ी पर हमले कर दिए। प्रियंका को भी जमीन पर पटक दिया और गाली -गलौज करते रहे। सूचना मिलने के बाद आसनसोल दुर्गापुर पुलिस कमिश्नरेट के उपायुक्त अभिषेक मोदी बड़ी संख्या में पुलिस के साथ पहुंचे तब जाकर हालात सामान्य हुआ। घटना की जांच की जा रही है।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा ने कहा कि दुर्गापुर में सभास्थल से 50 मीटर दूर एक ऐसा पोस्टर नजर आया जिसमें भाजपा के पोस्टर में पीएम मोदी की जगह सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हाथ जोड़े नजर आ रही हैं। पीएम मोदी के पोस्टर के ऊपर ममता बनर्जी का पोस्टर चिपका दिया गया है। इससे यह बात साफ होती है कि बंगाल में लोकतंत्र नाम की कोई चीज नहीं है। राहुल सिन्हा ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में पुलिस में केस दर्ज कराया है।

Share it
Top