आप घर बैठे भी कमा सकती हैं

आप घर बैठे भी कमा सकती हैं

जिंदगी इतनी तेज रफ्तार से चल रही है जिसे रोक पाना नामुमकिन है। हर आदमी व्यस्त है। मन करता है जीवन की इस तेज रफ्तार को कम कर दिया जाये किंतु समय किससे बंध पाया है? इसे कौन रोक पाया है? महिलाएं सोचती हैं कि घर से बाहर निकलकर वे भी इस तेज रफ्तार जिंदगी से मिल जायेंगी तो घर-परिवार के लिए कुछ कर पायेंगी जबकि यह बिलकुल सत्य नहीं है।
घर बैठकर भी बहुत कुछ किया जा सकता है। घर पर ही कोई व्यवसाय शुरू किया जा सकता है। कई व्यवसाय ऐसे होते हैं जिन्हें आप घर पर रहकर आसानी से चला सकते हैं। सरकार ने भी महिलाओं के लिए कई ऐसी योजनाएं शुरू की हैं जिनके विषय में जानकारी प्राप्त करके आप लाभ उठा सकती हैं। घर बैठे ही व्यवसाय खोलकर घर की आय में अपना सहयोग दे सकती हैं एवं पति व बच्चों को पूरा समय दे सकती हैं।
उद्योग मंत्रालय ने कई ऐसे काम शुरू किये हैं जिनमें दस्तकारी का काम सिखाया जाता है। आपको यह काम सीखने पर राज्य स्तर का पुरस्कार भी मिल सकता है। दस्तकारी में टोकरी बनाना, कठपुतली बनाना, थैले बनाना, चित्रकारी व शोपीस आदि बनाना सिखाया जाता है। इस काम को आप घर पर भी आसानी से कर सकते हैं। इससे खाली समय का सदुपयोग भी हो जायेगा।
इसके अलावा और बहुत से काम हैं जिन्हें आप व्यवसाय के तौर पर अपना सकते हैं। आप अपने शौक को व्यवसाय के रूप में भी विकसित कर सकते हैं। आपको खाना बनाने का शौक है। लोग भी आपके खाने की तारीफ करते नहीं थकते। तो क्यों न आप खाने को ही अपने व्यवसाय में शामिल कर लें।
उन लोगों के लिए कुछ कीजिए जो अपना घर छोड़कर दूसरे शहर में रोजगार के लिए आते हैं। नौकरी करते हुए खाना बना पाना उनके लिए मुश्किल होता है। होटल पर सुबह-शाम खाना खाते-खाते उनका पेट खराब हो जाता है। वे चाहते हैं कि कहीं से घर का बना हुआ खाना मिल जाये। इसके लिए वे पैसे देने को भी तैयार रहते हैं। ऐसे में शुरूआत अपने पड़ोस से करें और शुरू में अपने चार-पांच ग्राहक बनायें। इससे आप चार-पांच हजार रूपये हर महीने कमा सकती हैं। देखिये न घर बैठे आपके मनपसंद से आपको कितनी अच्छी कमाई होगी।
यदि केटरिंग का कार्य नहीं चलाना चाहती तो आप अपने घर के लिए अचार, पापड़ आदि तो बनाती ही होंगी। यदि सब इनकी तारीफ करते हैं तो इससे अधिक मात्रा में बनाकर बेच भी सकती हैं। आपके आसपास ही महिलाएं जरूर आपसे ये खरीद लेंगी। धीरे-धीरे और ग्राहक बनेंगे। वैसे भी कामकाजी महिलाओं को घर की बनी चीजें खरीदने को मिल जायें तो वे तुरंत खरीद लेती है। यदि आपके काम में सफाई का भी ध्यान रखा जाता है तो फिर क्या कहने? आपके पास ग्राहकों की लाइन लग जायेगी।
यदि आप यह भी नहीं कर सकती तो जरा सोचें, क्या आपने अपने बच्चों के लिए बचे-खुचे पुराने कपड़ों से गुड्डे-गुडिय़ां बनाएं हैं। यदि हां, तो आपका काम बन गया। आप इसे ही अपना व्यवसाय बना लें। घर पर ही सॉफ्ट टॉयज बनायें जैसे टेडीबियर, डॉगी वगैरह-वगैरह। बच्चों के माध्यम से ही इनके ग्राहक भी मिल जायेंगे। ऐसे टॉयज बाजारों में बेहद महंगे मिलते हैं। यदि आपसे ये टॉयज बच्चों के माता-पिता को कम दामों में मिलेंगे तो वे आपसे ही इन्हें खरीदेंगे।
यदि आप कुछ बना नहीं सकती, सिर्फ बच्चे ही खिला सकती हैं तो घबराइए मत। आप इसे ही अपना व्यवसाय बना सकती हैं। अक्सर कामकाजी महिलाओं के साथ छोटे बच्चों को लेकर दिक्कतें आती हैं। इनकी देखभाल के लिए वे इन्हें अक्सर क्रेच में छोड़ देती हैं। यदि आपको पड़ोस के बच्चे घेरे रहते हैं और आपको भी बच्चों से बेहद प्यार है तो आप घर में ही क्रेच भी खोल सकती हैं।
खुद का आत्मविश्वास बढ़ाएं। जब आप बच्चों को अपने साथ लगाये रख सकती हैं तो आप इसे व्यवसाय भी बना सकती हैं। इसमें कोई बुराई नहीं। आजकल सिर्फ एक घंटे की देखरेख के लिए काफी रूपये मिल जाते हैं। यदि आप पढ़ी-लिखी हैं तो और भी बढिय़ा बात है। आप क्रेच के साथ-साथ प्ले स्कूल भी खोल सकती है। इसमें ज्यादा पैसा खर्च करने की भी जरूरत नहीं होती है। इससे आप अपने लिए तो रोजगार पैदा करती हैं बल्कि कुछ समय बाद दूसरों को भी रोजगार देने के लिए सक्षम बन जाती हैं।
इसके अलावा और भी कई ऐसे काम हैं जिन्हें आप रोजगार के रूप में हल्के-फुल्के ढंग से कर सकती हैं। अपना बुटीक खोल सकती हैं। उसमें सिलाई, फॉल, पिको आदि के काम कर सकती हैं। रेडीमेड गारमेंटस सेल कर सकती हैं। आर्टिफिशियल ज्वैलरी सेल कर सकती हैं, ब्यूटी प्रोडक्ट्स सेल कर सकती हैं। वैसे भी काम की कोई कमी नहीं होती है। जरूरत होती है अपने अंदर छिपे हुनर को बाहर लाने की। जो शौक व्यवसाय बन जाता है, उसमें इंसान कभी थकता भी नहीं है।
- शिखा चौधरी

Share it
Share it
Share it
Top