Read latest updates about "लाइफ स्टाइल" - Page 4

  • अध्यात्म: क्या गुरु बिना जीवन व्यर्थ है?

    कहते हैं कि हर व्यक्ति के जीवन का कोई न कोई उद्देश्य अवश्य होता है और यदि यह सच है तो फिर कोई भी जीवन व्यर्थ नहीं है। लुट पिट कर भी, असफल हो कर भी कोई जीवन व्यर्थ नहीं जाता। लुट पिटने वाला, असफल होने वाला, दुष्ट-दुराचारियों के हाथों मारा जाने वाला व्यक्ति अन्यान्य हजारों लाखों लोगों की आंखें खोलकर...

  • खोज खबर: मी टू का रहस्य लोक

    अगर मैं कहूं कि खाई-पीई अघाई, मौकापरस्त और बिगडै़ल औरतों की कुंठा और ब्लैकमेलिंग का एक नाम 'मी टू' भी है तो आप क्या कहेंगे। मेरा स्पष्ट मानना है कि मी टू मतलब औरत, दौलत और शोहरत का एक्स्टेंशन। अंतिम सच यही है। आप शानदार नौकरी में हैं, फिल्म में हैं और आप के साथ कोई अभद्रता करता है तो आप बरसों...

  • पर्यटन: बेलगाम के जायके

    जब हम बात करते हैं भारत भ्रमण की तो सबसे पहले हमारे मन में जो ख्याल आता है वह होता है - विविधता का। हमारा राष्ट्र है ही गजब का। कदम-कदम पर बोली, पानी और वेशभूषा सभी में अंतर आने लगता है। फिर जायका कहां बचता है। एक फर्लांग दूरी तय की और वहां पर खाने को नया भोजन तथा अलग ही किस्म के पकवान मिल जायेंगे।...

  • डिप्रेशन स्तन कैंसर का कारण भी

    बोल्टीमोर में जोंस हापकिन्स स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के विशेषज्ञों द्वारा किए गए शोध के अनुसार डिप्रेशन के कारण भी स्तन कैंसर की संभावना बढ़ जाती है। इस शोध में उन्होंने 13 वर्षों तक महिलाओं का अध्ययन किया और पाया कि जो इस अवधि में डिप्रेशन में रही, उन्हें अन्य महिलाएं जो खुश रही, की तुलना में चार...

  • पर्यटन/धर्मस्थल: दर्शनीय श्री रामेश्वरम् धाम

    धर्मप्राण भारत में प्राचीनकाल से ही तीर्थों की स्थापना की परंपरा रही है। इसी परंपरा के अनुसार विशाल भारत देश को एकता-सूत्र में बांधे रखने के लिये परम पवित्र चार धामों की स्थापना चार दिशाओं में की गई है। उत्तर में हिमालय की गोद में बदरीनाथ, पश्चिम में द्वारिकापुरी, पूरब में जगन्नाथ पुरी तथा सुदूर...

  • 12 नवंबर- आज ही देश का पहला मानव रहित चंद्रयान-1 चन्द्रमा की अन्तिम कक्षा में स्थापित हुआ था

    नयी दिल्ली । भारत और विश्व इतिहास में 12 नवंबर की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं:- 1781 – अंग्रेजों ने नागापट्टनम पर कब्जा किया। 1840 – 19वीं शताब्दी के प्रख्यात मूर्तिकार अगोस्ट रोडेन का पेरिस में जन्म हुआ। 1847 – ब्रिटेन के चिकित्सक सर जेम्स यंग सिंप्सन ने एनेस्थेटिक के रूप में पहली बार...

  • कहीं मुसीबत न बन जाए परपुरूष प्रशंसा

    पुरूष स्वभाव से ही शक्की होते हैं। विवाहित पुरूष पराई स्त्री को घूर कर देख लें, उससे हंसकर बातें कर लें, उसके रंग रूप की प्रशंसा कर ले या उससे शारीरिक सम्पर्क जोड़ ले, तब भी पत्नी पति को छोडऩे की बात नहीं सोच पाती परन्तु पत्नी यदि किसी और पुरूष से हंस बोल ले या उसकी जरा सी प्रशंसा कर दे तो पति झट...

  • देह शोषण के अनदेखे सच

    एक सरकारी अस्पताल में पीड़ा से कराहती महिला के साथ वार्ड बाय छेडख़ानी करता है। महिला के एतराज करने पर वह उसे बेहोशी की दवा देकर बेइज्जत कर देता है। क्या यही है महिलाओं की आजादी, उन्हें बराबरी का हक दिया जाना? हैवानियत की ऐसी भूख का निवाला अलग-अलग रूपों में बार-बार बनती रहती है औरत। एक अधेड़ औरत को...

  • घने, खूबसूरत बाल बढ़ाते हैं आपकी फेस वेल्यू

    आपकी फेस वेल्यू बढ़ाने में जहां आपका चेहरा और आपके नैन नक्श महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं, वहीं आपके बाल भी महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। स्वस्थ घने खूबसूरत बाल आपके चेहरे के सौंदर्य को दुगुना बढ़ा देते हैं, इसलिए बालों को भी उतनी ही देखभाल की जरूरत होती है जितनी आपकी त्वचा को होती है। कई...

  • विश्लेषण: भारतीय कूटनीति के नवल आयाम

    पहले चरण में पाकिस्तान को अपनी कूटनीति से विश्व पटल पर वनवासित कर, दूसरे चरण में रोज भारत को गीदड़ भभकियां देने के आदी चीन को नब्बे दिन तक उसी की तर्ज पर आँखें दिखाकर वापस होने को मजबूर करने और फिर दोस्ती का हाथ बढ़ाने की विवशता पैदा करने के उपरान्त मोदी की कूटनीति अब अपनी चमत्कारपूर्ण प्रगति के...

  • व्यंग्य: आचार संहिता लग गई, अब सब आदर्श ही होगा

    लो फिर लग गई आचार संहिता। अब महीने दो महीने सारे सरकारी काम काज नियम कायदे से ही होंगे। पूरी छान बीन के बाद। नेताओं की सिफारिश नहीं चलेगी। वही होगा जो कानून बोलता है, जो होना चाहिये। अब प्रशासन की तूती बोलेगी। जब तक आचार संहिता लगी रहेगी, सरकारी तंत्र, लोकतंत्र पर भारी पड़ेगा। बाबू साहबों के पास...

  • विश्लेषण: अब दुनियां भर में सबसे ऊंचे कद के होंगे सरदार डा. वल्लभभाई पटेल

    विश्वभर में सबसे चर्चित और ऊंची दिखने वाली प्रतिमा लौहपुरुष सरदार पटेल की प्रतिमा अब गुजरात में बनकर पूर्णतया तैयार हो चुकी है इसका लोकार्पण 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती पर तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया जाएगा। कुछ राजनीतिक पंडितों का कहना है कि आगामी आम चुनाव में यह...

Share it
Top